Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Asian Games 2018: कुश्ती स्पर्धा: बजरंग और विनेश के पास कद बढ़ाने का मौका, सुशील और साक्षी की अग्निपरीक्षा

पहलवान बजरंग पूनिया और आत्मविश्वास से भरी विनेश फोगाट से 18वें एशियाई खेलों में रविवार से शुरू हो रहे कुश्ती स्पर्धा में भारत के पदक की उम्मीद होगी जबकि फ्रीस्टाइल स्पर्धा में सुशील कुमार के सामने खुद को साबित करने की चुनौती होगी।

Asian Games 2018: कुश्ती स्पर्धा: बजरंग और विनेश के पास कद बढ़ाने का मौका, सुशील और साक्षी की अग्निपरीक्षा
X

पहलवान बजरंग पूनिया और आत्मविश्वास से भरी विनेश फोगाट से 18वें एशियाई खेलों में रविवार से शुरू हो रहे कुश्ती स्पर्धा में भारत के पदक की उम्मीद होगी जबकि फ्रीस्टाइल स्पर्धा में सुशील कुमार के सामने खुद को साबित करने की चुनौती होगी।

फ्रीस्टाइल कुश्ती स्पर्धा में रविवार को भारत के छह में से पांच पहलवानों का मुकाबला है जिसमें पहली बाउट बजरंग की है। वह 65 किग्रा भार वर्ग में उजबेकिस्तान के सिरोजिद्दीन खासानोव से भिड़ेंगे।

इसे भी पढ़ें: ENGvIND: भारत-इंग्लैंड तीसरा टेस्ट आज, जानें कब, कहां और कैसे देखें Live मैच

पहलवान बजरंग पूनिया और आत्मविश्वास से भरी विनेश फोगाट से 18वें एशियाई खेलों में रविवार से शुरू हो रहे कुश्ती स्पर्धा में भारत के पदक की उम्मीद होगी जबकि फ्रीस्टाइल स्पर्धा में सुशील कुमार के सामने खुद को साबित करने की चुनौती होगी।

रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली साक्षी मलिक राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीतने के बाद एशियाई खेलों में भी अपना पहला पदक जीतने के लिए जोर लगाएंगी।

पहली बाउट बजरंग की

फ्रीस्टाइल कुश्ती स्पर्धा में रविवार को भारत के छह में से पांच पहलवानों का मुकाबला है जिसमें पहली बाउट बजरंग की है। वह 65 किग्रा भार वर्ग में उजबेकिस्तान के सिरोजिद्दीन खासानोव से भिड़ेंगे। पुरूषों के ग्रीको रोमन और महिलाओं के मुकाबले सोमवार से शुरू होंगे।

बजरंग ने एशियाई खेलों में आने से पहले लगातार तीन स्वर्ण पदक जीते हैं। उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों (गोल्ड कोस्ट), तबलिसी ग्रां प्री (जार्जिया) और यासर दोगु अंतरराष्ट्रीय (इस्तांबुल) में सोने का तमगा हासिल किया है और वह यहां भी इस स्वर्ण पदक हासिल करने के असली दावेदार होंगे।

सुशील कुमार

दूसरी तरफ ओलंपिक में भारत की ओर से एकल स्पर्धा में दो पदक जीतने वाले एकमात्र खिलाड़ी सुशील कुमार पिछले महीने जार्जिया में हुए तबलिसी ग्रां प्री में हार गये थे। चार साल में यह पहला मौका था जब सुशील पहली बाउट में ही हार कर बाहर हो गये। वह हालांकि प्रतियोगिता से पहले आत्मविश्वास से भरे दिखे।

वह बहरीन के एडम बातिरोव के खिलाफ अपने अभियान की शरुआत करेंगे। भारतीय कोच ने कहा कि प्रतियोगिता ओलंपिक की तरह चुनौतीपूर्ण है क्योंकि ओलंपिक में भी ज्यादातर एशियाई पहलवानों का दबदबा रहता है।

विनेश फोगाट

राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता विनेश फोगाट 50 किग्रा में चुनौती पेश करेंगी। उन्हें अच्छा ड्रा मिला है क्योंकि मजबूत जापानी प्रतिद्वंद्वी (यूकी आईरी) दूसरे ग्रुप में हैं। चीन की सन यान हालांकि विनेश के ग्रुप में ही हैं जिन्होंने उन्हें रियो ओलंपिक में हराया था।

इस मुकाबले में विनेश का पैर फैक्चर हो गया था। उन्होंने कहा,‘‘ पिंकी को इस बार कुछ करना चाहिए। उसे सिर्फ मंगोलियाई पहलवान (सुमिया एर्डेनेचिमेग) को हराया है और वह पदक जीत सकती है।

साक्षी को सिर्फ कोरियाई (जोंग सिम रिम) चुनौती से पार पाना होगा क्योंकि ज्यादातर मजबूत पहलवान दूसरे ग्रुप में हैं। ' पिछले एशियाई खेलों में भारतीय दल ने पांच पदक जीते थे जिसमें से योगश्वर दत्त इकलौते स्वर्ण पदक विजेता थे।

भारतीय टीम इस प्रकार है।

पुरूष फ्रीस्टाइल:

संदीप तोमर (57 किग्रा), बजरंग पूनिया (65 किग्रा), सुशील कुमार (74 किग्रा), पवन कुमार (86 किग्रा), मौसम खत्री (97 किग्रा) और सुमित मलिक (125 किग्रा)

पुरूष ग्रीको रोमन: ज्ञानेन्द्र (59किग्रा), मनीष (67 किग्रा), गुरप्रीत सिंह (77 किग्रा), हरप्रीत सिंह (87 किग्रा), हरदीप सिंह (97 किग्रा) और नवीन (130 किग्रा)

महिला फ्रीस्टाइल: साक्षी मलिक (62 किग्रा), विनेश फोगाट (50 किग्रा), पिंकी (53 किग्रा), पूजा ढांडा (57), दिव्या काकरान (68) और किरण (72) । भाषा आनन्द नमिता

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story