Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दीपक चहर ने किया डेब्यू, क्रिकेटर बनाने के लिए पिता ने छोड़ दी एयरफोर्स की नौकरी, जानें सबकुछ

दुबई में चल रहे एशिया कप 2018 में भारत और अफगानिस्तान दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में सुपर फोर स्टेज का अपना आखिरी मुकाबला खेला जा रहा है। भारत की ओर से दीपक चाहर इस मैच डेब्यू कर रहे हैं।

दीपक चहर ने किया डेब्यू, क्रिकेटर बनाने के लिए पिता ने छोड़ दी एयरफोर्स की नौकरी, जानें सबकुछ

दुबई में चल रहे एशिया कप 2018 में भारत और अफगानिस्तान दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में सुपर फोर स्टेज का अपना आखिरी मुकाबला खेला जा रहा है।अफगानिस्तान नें टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया है। भारत की ओर से दीपक चाहर इस मैच डेब्यू कर रहे हैं।

चहर भारत के 223वें वनडे खिलाड़ी बन गए हैं। उन्हें भारतीय कोच रवि शास्त्री ने कैप पहनाई। एशिया कप में पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या के चोटिल होकर टूर्नामेंट से बाहर हो जाने के बाद तेज गेंदबाज दीपक चाहर को भारतीय टीम में शामिल किया गया था।

इसे भी पढ़ें: विराट कोहली और मीराबाई चानू को मिला सबसे बड़ा खेल सम्मान, कप्तान बनें तीसरे क्रिकेटर

दीपक चहर ने चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से 2018 आईपीएल में शानदार गेंदबाजी करते हुआ सबका ध्यान अपनी ओर खींचा था। 2011-12 के रणजी सीजन के 6 मैच खेलने के बाद दीपक को जॉन्डिस हो गया था। फिर वह तीन महीने तक बिस्तर से उठ नहीं पाए। जिसकी वजह से उनकी स्पीड भी कम हो गई है, हालांकि इसके बाद उन्होंने शानदार वापसी की।

क्रिकेटर बनाने के लिए पिता ने छोड़ दी थी नौकरी

दीपक के क्रिकेटर बनने की कहानी की बड़ी दिलचस्प है। दीपक का जन्म 7 अगस्त 1992 को आगरा में हुआ था। जब दीपक 10 साल के थे, तब से ही उनके पिता लोकेंद्र ने उनको जयपुर की जिला क्रिकेट अकेडमी में एडमिशन करवा दिया था। बाद में बेटे को क्रिकेटर बनाने के लिए उनके पिता ने एयरफोर्स की नौकरी भी छोड़ दी। वो रोज दीपक को बाइक से खुद ट्रेनिंग करवाने ले जाते और साथ वापस आते।

दीपक चहर का करियर

दीपक चहर ने 40 फर्स्ट क्लास मैचों में 113 विकेट लिए हैं। जिसमें उनका बेस्ट परफॉर्मेंस 10 रन देकर 8 विकेट है। साथ ही उन्होंने 883 रन भी बनाए हैं 9 लिस्ट ए मैचों में उन्होंने 14 विकेट लिए हैं जबकि 30 मैच टी20 मैचों में 35 विकेट लिए हैं।

Share it
Top