Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

35 साल पहले टीम इंडिया ने अंग्रेजों की धरती पर लहराया था तिरंगा, इस दिन को जितना याद करेंगे उतना ही आपको गर्व होगा

भारतीय खेलों के इतिहास में 25 जून 1983 का दिन कभी नहीं भुलाया जा सकता है। फाइनल में भारत ने दो बार की वर्ल्ड कप चैंपियन वेस्टइंडीज को 43 रनों से हराकर हैरतअंगेज जीत हासिल की थी।

35 साल पहले टीम इंडिया ने अंग्रेजों की धरती पर लहराया था तिरंगा, इस दिन को जितना याद करेंगे उतना ही आपको गर्व होगा

35 साल पहले आज ही के दिन यानि 25 जून को लॉर्ड्स में भारत ने वेस्टइंडीज को हराकर पहली बार वर्ल्ड कप जीतते हुए इतिहास रचा था। भारतीय खेलों के इतिहास में 25 जून 1983 का दिन कभी नहीं भुलाया जा सकता है।

फाइनल में भारत ने दो बार की वर्ल्ड कप चैंपियन वेस्टइंडीज को 43 रनों से हराकर हैरतअंगेज जीत हासिल की थी। कमजोर माने जाने वाली भारतीय टीम ने उम्मीदों के विपरीत चौंकाने वाला प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड तथा वेस्टइंडीज जैसी दिग्गज टीमों को हराते हुए विश्व चैंपियन बना था।

ऐसा रहा था फाइनल मैच का हाल

संदीप पाटिल (27 रन), कपिल देव (15 रन), मदनलाल (17 रन), सैयद किरमानी (14 रन) और बलविंदर सिंह संधू के 11 रनों की मदद से भारतीय टीम केवल 183 रनों को स्कोर पर सिमट गई थी। वेस्टइंडीज की ओर से एंडी रॉबर्ट्स ने 3, मैलकम मार्शल, माइकल होल्डिंग और लैरी गोम्स ने दो-दो विकेट झटके थे।

इस छोटे से लक्ष्य के जवाब में भी वेस्टइंडीज की टीम 76 रन के स्कोर पर छह विकेट खो चुकी थी। हालांकि इसके बाद ज्येफ डूजॉन (25 रन) और मार्शल (18 रन) ने कुछ संघर्ष दिखाया लेकिन मोहिंदर अमरनाथ ने डूजॉन, मार्शल और होल्डिंग के विकेट झटकते हुए वेस्टइंडीज को सिर्फ 140 रन के स्कोर पर आउट कर दिया।

और इस तरह भारत को 43 रन से ऐतिहासिक जीत दर्ज कर ली। भारत की ओर से मदन लाल ने 31 रन देकर तीन विकेट, मोहिंदर अमरनाथ ने 12 रन देकर तीन विकेट और संधू ने 32 रन देकर दो विकेट लिए थे।

Share it
Top