Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

100 वर्षीय बुजुर्ग एथलीट ने 78 साल के बेटे को हराकर जीता स्वर्ण

100 मीटर की इस रेस को एक मिनट 21 सेकंड में पूरा किया।

100 वर्षीय बुजुर्ग एथलीट ने 78 साल के बेटे को हराकर जीता स्वर्ण
X
अमेरिका. भारत इस बार रियो ओलंपिक में गोल्ड मेडल भले ही न जीता हो लेकिन भारत की 100 वर्षीय बुजुर्ग एथलीट ने सात समंदर पार गोल्ड मेडल जीतकर भारत का नाम रौशन किया है। यहां बात हो रही है भारतीय धावक मान कौर की। इन्होंने सोमवार को अमेरिकन मास्टर्स गेम्स में अपने 78 साल के बेटे को हराकर अपनी एज कैटेगरी में स्वर्ण पदक जीता है।
उन्होंने वैंकूवर शहर में हुए इवेंट में जैसे ही फिनिश लाइन को पार किया, वैसे ही उनकी प्रतिद्वंदियों ने उनके लिए चीयर आप करना शुरू कर दिया। ये सभी 70-80 वर्ष की उम्र के बीच की थीं। उन्होंने 100 मीटर की इस रेस को एक मिनट 21 सेकंड में पूरा किया।
अमेरिकन मास्टर्स गेम्स विशेष तौर पर 30 वर्ष से अधिक उम्र वाले एथलीटों के लिए आयोजित कराया जाता है। मान कौर जैसे ही इवेंट में हिस्सा लेने आईं, वैसे ही वहां मौजूद लोग उनके लिए तालियां बजाने लगे। सभी उनकी एनर्जी और लड़ने की इच्छाशक्ति से प्रेरित हो रहे थे।
1600 मीटर की रिले में 1984 ओलंपिक का सिल्वर मेडल अपने नाम करने वाली कारमेन क्रुक्स इन मास्टर्स गेम्स की एथलीट एंबेसडर थीं। वह पांच बार की ओलंपियन रह चुकी हैं। उन्होंने मान कौर की प्रतिभा की तारीफ की।
उन्होंने मान के बारे में कहा कि ये हम सभी की प्रेरणस्त्रोत हैं। दुनियाभर के मास्टर्स खेलों में मान कौर अब तक 20 मेडल अपने नाम कर चुकी हैं। विश्व मास्टर्स गेम्स हर 4 साल में आयोजित होते हैं।
महिलाओं की प्रेरणा
मान कौर ने 93 वर्ष की उम्र से दौड़ना शुरू किया और इसके लिए उनके बेटे गुरुदेव सिंह ने उन्हें मनाया। उसके बाद से उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और बुजुर्ग महिलाओं को अपनी क्षमता से प्रेरित करती आ रही हैं।
हार गए गुरुदेव
इस प्रतियोगिता में मान कौर के 78 वर्षीय बेटे गुरुदेव सिंह भी प्रतिभागी रहे, जिसमें वे हार गए।
4 साल बाद योगेश्वर को सिल्वर
भारतीय पहलवान योगेश्वर दत्त का लंदन ओलंपिक में जीत कांस्य पदक रजत में बदल गया जब दूसरे स्थान पर रहे रुस के दिवंगत बेसिक कुडुखोक को डोप टेस्ट में नाकाम रहने के कारण पदक गंवाना पड़। योगेश्वर ने ट्वीट किया, मुझे आज सुबह ही पता चला कि मेरा ओलंपिक पदक अब रजत में बदल गया है। मैं यह पदक देशवासियों को समर्पित करता हूं।
अमेरिकन मास्टर्स गेम्स
-100 मीटर की दौड़ का आयोजन
-01 मिनट 21 सेकंड में किया पूरा
-20 मेडल अब तक जीती
-93 साल की उम्र से दौड़ रहीं
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story