Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

होम क्वारैंटाइन से बाहर निकले युवक पर डॉक्टर की सख्ती, डंडा लेकर सड़कों पर दौड़ाया

राजस्थान (Rajasthan) में युवक को होम क्वारैंटाइन (Home Quarantine) से बाहर निकलना महंगा पड़ गया। डॉक्टर ने सख्ती दिखाते हुए डंडा लेकर सड़कों पर दौड़ाया।

होम क्वारैंटाइन से बाहर निकले युवक पर डॉक्टर की सख्ती, डंडा लेकर सड़कों पर दौड़ाया
X

राजस्थान (Rajasthan) में कोरोना के खिलाफ हर विभाग सख्त नजर आ रहा है। पुलिस के साथ डॉक्टर भी पूरी सख्ती से पेश आ रहे हैं। दरअसल मकराना में कई लोगों को होम क्वारैंटाइन (Home Quarantine) में रखा गया है। इस दौरान कुछ युवक होम क्वारैंटाइन से बाहर निकल कर गली में बैठ गए।

इसे देखते हुए डॉक्टर ने पहले काफी समझाया, लेकिन युवक ने एक नहीं सुनी। फिर क्या था डॉक्टर पुलिस की जगह लेकर हाथ में डंडा लेते हुए युवक को सड़कों पर दौड़ना शुरू कर दिया। यह घटना मकराना के लुहारपुरा इलाके की है। यहां बाहर से आए 38 लोगों को होम क्वारैंटाइन पर रखा गया है।

युवक की लापरवाही पर डॉक्टर ने सड़कों पर दौड़ाया

डॉक्टर आबिद हुसैन की टीम इन युवकों की जांच के लिए पहुंची। जांच करने के बाद कुछ युवक घर से बाहर निकल आए। साथ में कुछ और लोग उनके पास इकट्ठे हो गए। डॉक्टर आबिद ने युवकों को अंदर जाने के लिए काफी समझाया। साथ ही फैल रहे कोरोना संक्रमण के बारे में भी बताया।

लेकिन युवकों ने डॉकटर की एक नहीं सुनी। इसके बाद डॉक्टर अपने स्टेथस्कोप को गले से उतार कर हाथ में डंडा उठा लिया। वह युवकों को डंडा दिखाकर सड़कों पर दौड़ाने लगें। इसके बाद सभी बाहर निकले युवक डंडे की डर से घरों में वापस आ गए। बता दें कि पूरे मकराना में बाहर से आए 4500 युवकों को होम क्वारैंटाइन सेंटर में रखा हुआ है।

डॉक्टर ने कोरोना से बचने के लिए दिया सुझाव

डॉ. आबिद हुसैन ने कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) किसी की जाति, धर्म या समाज को देखकर अटैक नहीं करता, बल्कि लापरवाही बरतने वालों को अपने चपेट में लेती है। हम अपने घर-परिवार को छोड़कर अपनी जान को मौत के मुंह में धकेल कर लोगों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

हर दिन 18 से 19 घंटे की ड्यूटी कर रहे हैं। ऐसे में कम से कम आइसोलेट व्यक्ति लापरवाही तो न बरतें। हमारे हाथ में स्टेथोस्कोप, पेन ही अच्छा लगता है। अल्लाह ने हमें लोगों के जीवन बचाने और खुशी देने का काम सौंपा हैं। लेकिन यहां की लापरवाही को देखते हुए हाथ में डंडा उठाना पड़ा।

मेरी नियत किसी को ठेस पहुंचाने की नहीं है। बस यह डंडा उनके मन में एक डर पैदा करने की थी। ताकि बाहर निकले लोग अंदर आ जाए।


Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story