Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वसुंधरा राजे ने मां की ममता पाठशाला को बताया सराहनीय, सुमन को दी बधाई

वसुंधरा राजे ने मां की ममता पाठशाला की सेविका सुमन चौधरी की पहल को सराहनीय बताया है। उन्होनें कहा कि आपका यह कदम बच्चों का सुनहरे भविष्य तय करेगा।

वसुंधरा राजे ने मां की ममता पाठशाला को बताया सराहनीय, ट्वीट के जरिए सुमन को दी बधाई
X
वसुंधरा राजे

राजस्थान के बीजेपी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एंव पू्र्व सीएम वसुंधरा राजे ने मां की ममता पाठशाला को सराहनीय बताया। उन्होनें मां की ममता पाठशाला की सेविका सुमन चौधरी को ट्वीट के जरिए बधाई दी है। ट्वीट के जरिए कहा कि समाज सेविका सुमन चौधरी जी के द्वारा मां की ममता पाठशाला चलाने का काम बेहद सराहनीय है।

झुंझुनूं की कच्ची बस्तियों में रहने वाले बच्चों को मां की ममता पाठशाला के माध्यम से मुफ्त में पढ़ने का मौका मिल रहा है। उनका यह काम बच्चों की भविष्य के लिए एक दिशापूर्ण के तहत काम करेगा। राजे ने कहा कि सुमन जी यह कदम न सिर्फ बच्चों को शिक्षा का महत्त्व समझाएगा बल्कि उनका सुनहरा भविष्य भी तय करेगा।

मां की ममता पाठशाला सेविका की कहानी

मां की ममता पाठशाला की सेविका सुमन चौधरी है। जिसने बस्तियों में रह रहे गरीब बच्चों की पढाई की जिम्मेदारी उठाई है। दरअसल झुंझुनूं की रहने वाली सुमन ने एक दिन झोपड़ी में अपने बेटे का जन्मदिन मनाने गई थी। जहां उन्होनों झोपड़ी के बच्चे को लाचार और बेसहारा देखा।

जिसके बाद उन्होनें इन बच्चों को फ्री में पढ़ाने का फैसला लिया। सुमन ने 16 अगस्त 2019 से बच्चों के लिए फ्री में पढ़ाई की शुरुआत की। जिससे मां की ममता पाठशाला नाम दिया गया। पाठशाला का समय शाम साढ़े तीन से साढ़े पांच बजे तक रहता है।

मिली जानकारी के मुताबिक मां की ममता में ऐसे बच्चे पढ़ाई के लिए आते हैं, जो ज्यादातर अपने माता- पिता के साथ मजदूरी किया करता था। यहां पढऩे वाले 90 फीसदी बच्चे ऐसे हैं, जो कभी स्कूल नहीं गए।



Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story