Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सचिन पायलट / जानें कैसे तय किया फर्श से अर्श का सफर

राजस्थान चुनाव में प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि जिन्होंने जमीनी स्तर पर कांग्रेस को मजबूत कर जीत दिलाई है। जिन्होंने अपना ध्यान राष्ट्रीय राजनीति से हटा कर राज्य की चुनौतियों पर लगाया और जमीनी स्तर पर पार्टी को सींच कर उसकी जीत सुनश्चित की।

सचिन पायलट / जानें कैसे तय किया फर्श से अर्श का सफर
X
Sachin Pilot Biography
सचिन पायलट की जीवनी की बात की जाए तो सात सितंबर 1977 को जन्में सचिन पायलट कांग्रेस के कद्दावर नेता स्वर्गीय राजेश पायलट के बेटे हैं। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने सचिन पायलट को राजस्थान की बागडोर सौंपी थी और उसी का नतीजा है कि राजस्थान विधानसभा चुनाव परिणाम (Rajasthan Assembly Election) आने के बाद हर को कांग्रेस को मिली इस जीत का श्रेय युवा नेता सचिन पायलट (Sachin Pilot) को दे रहे हैं, जिन्होंने अपना ध्यान राष्ट्रीय राजनीति से हटा कर राज्य की चुनौतियों पर लगाया और जमीनी स्तर पर पार्टी को सींच कर उसकी जीत सुनश्चित की। इसलिए आज राजस्थान में को मुख्यमंत्री पद की दौड़ में गिना जा रहा है।

2014 के चुनाव में सचिन पायलट ने खाई थी 'कसम'

पिछले लोकसभा चुनाव (2014) में कांग्रेस की हार होने पर उन्होंने यह संकल्प लिया था कि जब तक पार्टी सत्ता में नहीं लौटती वह साफा नहीं बांधेंगे। अब ऐसा लगता है कि वह साफा बांध सकते हैं।

2013 में सचिन पायलट को मिली कमान

राजस्थान में 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली करारी शिकस्त (भाजपा की 163 सीटों के मुकाबले महज 21 सीट) के बाद राहुल गांधी (वर्तमान पार्टी अध्यक्ष) ने राज्य की बागडोर पार्टी के दिवंगत नेता राजेश पायलट के बेटे सचिन को सौंपी थी।

केंद्र की राजनीति से ऐसे पहुंचे राज्य में

राजेश पायलट की 2000 में दौसा में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। संप्रग सरकार में विभिन्न मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके सचिन पायलट ने यह चुनौती स्वीकार कर ली और अपना ध्यान राष्ट्रीय राजनीति से हटा कर राजस्थान की चुनौतियों पर केंद्रित किया।

सचिन पायलट की रैली और यात्राएं

सचिन ने ने जमीनी स्तर पर पार्टी को मजबूत करने और राज्य की सत्ता में उसकी वापसी सुनिश्चित करने के लिए राजस्थान में रैली और पांच लाख किलोमीटर से अधिक की यात्रा की। उन्हें जनवरी 2014 में प्रदेश (राजस्थान) कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया।

सबसे कम उम्र के सांसद बने सचिन पायलट

सचिन पायलट साल 2004 में अपने पिता के निर्वाचन क्षेत्र दौसा से 26 वर्ष की आयु में सांसद चुने गए, इसके साथ ही सचिन पायलट संसद के सबसे युवा सदस्य बने थे।
सचिन पायलट दूसरी बार 2009 में अजमेर सीट से लोकसभा के लिए चुने गए थे। दो बार सांसद रहे सचिन पायलट ने अपना पहला विधानसभा चुनाव दिसंबर में टोंक सीट से लड़ा और जीत हासिल की।

सचिन पायलट का राजनीतिक करियर

सचिन पायलट के राजनितिक करियर की बात की जाए तो, सचिन पायलट ने अजमेर सीट से भाजपा प्रत्याशी युनुस खान को हराया था।
सचिन पायलट संप्रग सरकार में मंत्री और विभिन्न संसदीय समितियों के सदस्य रह चुके हैं।
सचिन पायलट केंद्र सरकार के गृह विभाग के स्टैंडिंग कमिटी के सदस्य एवं नागरिक उड़्डयन मंत्रालय के सलाहकार समिति के सदस्य भी रहे।
सचिन पायलट को 2008 में विश्व आर्थिक मंच (वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम) ने यंग ग्लोबल लीडरों में भी चुना था।

सचिन पायलट की शिक्षा

सचिन पायलट ने दिल्ली के सेंट स्टीफंस कॉलेज से पढ़ाई पूरी करने के बाद गुडगांव की एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में तीन साल काम किया।
उसके बाद व्हार्टन से एमबीए किया और कई बड़ी योजनायें बनाई।
सचिन पायलट ने बीबीसी के दिल्ली ब्यूरो में और फिर जनरल मोटर्स कॉरपोरेशन में काम किया।
सचिन पायलट ने व्हार्टन बिजनेस स्कूल (पेनसिलवेनिया विश्वविद्यालय) से बहुराष्ट्रीय प्रबंध एवं वित्त' में एमबीए किया है।

सचिन पायलट की मनपसंद फिल्में

सचिन पायलट की मनपसंद फिल्मों की बात की जाए तो मदर इंडिया, कुछ कुछ होता है, तारे जमीं पर समेत कई फिल्में हैं। सचिन पायलट अक्सर सिनेमा हॉल में जाकर फिल्में देखते हैं।

सचिन पायलट के मनपसंद गीत

सचिन पायलट का मनपसंद गाना फिल्म ‘रंग दे बसंती’ का टाइटल सॉंग है। इसके अलावा शाहरुख़ की फ़िल्म का गाना ‘ओम शांति ओम’, ‘कजरारे-कजरारे’, सांवरिया फ़िल्म का गाना, ‘बिन तेरे…’, ‘अल्लाह के बंदे..’ ये सब सचिन पायलट के मन को भाते हैं।

सचिन पायलट की लव स्टोरी

सचिन पायलट की लव स्टोरी की बात की जाय तो सचिन पायलट की पत्नी सारा का परिवार दोनों के परिवार के संबंध पहले से थे, दोनों ने एक-दूसरे को समझा और फिर 2004 में शादी कर ली।
सचिन की शादी की बात करें तो सचिन पायलट की शादी नेशनल कांफ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला की बेटी सारा से हुई थी। सचिन पायलट wife सारा से उनके दो बेटे भी हैं।

सचिन पायलट का पसंदीदा अभिनेता

आमिर खान

सचिन पायलट की पसंदीदा अभिनेत्री

नरगिस और मधुबाला

सचिन पायलट का पसंदीदा खेल

निशानेबाज

सचिन पायलट के जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातें

सचिन पायलट ने विमान उड़ाने के लिए पायलट' का अपना निजी लाइसेंस 1995 में अमेरिका से हासिल किया था।
उनकी खेलों में भी रूचि रही है और कई राष्ट्रीय शूटिंग प्रतिस्पर्धाओं में उन्होंने दिल्ली का प्रतिनिधित्व भी किया है।
अब, पूरे राज्य की नजरें बुधवार को होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक पर है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story