Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान समाचार: मांगे पूरी होने के बाद विधायकों का अनशन खत्म, जानें पूरा मामला

राजस्थान के टोंक जिले में एक ट्रैक्टर चालक की कथित तौर पर पुलिस पिटाई में मौत के खिलाफ दो विधायकों की भूख हड़ताल सोमवार को सरकार द्वारा मांगें मान लेने के आश्वासन के बाद खत्म हो गयी।

राजस्थान समाचार: मांगे पूरी होने के बाद विधायकों का अनशन खत्म, जानें पूरा मामला
X

राजस्थान के टोंक जिले में एक ट्रैक्टर चालक की कथित तौर पर पुलिस पिटाई में मौत के खिलाफ दो विधायकों की भूख हड़ताल सोमवार को सरकार द्वारा मांगें मान लेने के आश्वासन के बाद खत्म हो गयी। इस मामले में सत्तारूढ़ कांग्रेस के विधायक और पूर्व पुलिस महानिदेशक हरीश मीणा तथा भाजपा विधायक गोपीचंद मीणा टोंक के नगर फोर्ट इलाके में शनिवार से अनशन पर बैठे थे।

मामले को सुलझाने के लिए राज्य के खाद्य मंत्री रमेश मीणा सोमवार शाम को टोंक पहुंचे और वहां मृतक चालक के परिवार वालों से मिलने के बाद आंदोलनकारी नेताओं से चर्चा की और उन्हें सरकार की ओर से सभी मांगें माने जाने का आश्वासन दिया। मीणा ने कहा कि 'मैं मृतक के घर गया था और उसके बाद धरना स्थल पर आंदोंलनकारी नेताओं से मिलकर उन्हें सरकार के निर्णय के बारे में अवगत कराया।

सरकार सभी मांगों को मानने को तैयार है। उन्होंने बताया कि मुख्य मांग मृतक के परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी देने की है जिसे मान लिया गया है। मृतक के परिवार के सदस्य और आंदोलनकारी सरकार के निर्णय से संतुष्ट थे और उन्होंने अपनी भूख हडताल समाप्त कर दी है। आंदोलनकारी मांग कर रहे हैं कि चालक के एक परिजन को सरकारी नौकरी दी जाए, 25 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए तथा आरोपी पुलिसवालों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज हो।

इसके साथ वे मामले की जांच सीआईडी से करवाने की मांग कर रहे हैं। घटना पिछले सप्ताह मंगलवार की है जब ट्रैक्टर ट्राली चालक भजन लाल की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गयी। चालक भजन लाल (30) मंगलवार रात कथित तौर पर अवैध रूप से बजरी आदि लेकर जा रहा था। नगर फोर्ट पुलिस थाना क्षेत्र के लक्ष्मीपुरा में पुलिस ने उसका पीछा किया।

टोंक के पुलिस अधीक्षक चूनाराम जाट के अनुसार, पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो चालक चलते ट्रेक्टर से कूद गया और इससे उसकी मौत हो गयी। वहीं परिवारवालों का आरोप है कि पुलिस वालों ने उसकी पिटाई की जिससे उसकी मौत हुई। पूर्व पुलिस महानिदेशक और कांग्रेस विधायक हरीश मीणा (देवली उनियारा) बुधवार को धरने पर बैठे जबकि गोपीचंद मीणा (जहाजपुर) भी उनके साथ शामिल हो गए।

यह धरना शनिवार को अनिश्चितकालीन हड़ताल में बदल गया। चालक के शव को धरना स्थल पर फ्रीजर में रखा गया जहां लगभग 250-300 लोग धरने पर बैठे। टोंक के जिला कलेक्टर आर सी धेनवाल ने कहा कि चालक के परिवार को 13 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा, आरोपी पुलिस वालों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज होगा और मामले में सीआईडी जांच का आदेश दिया जाएगा। मेडिकल बोर्ड शव का मंगलवार को पोस्टर्माटम करेगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story