Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान चुनाव/ कांग्रेस की यूपीए सरकार के कुकर्म का परिणाम हैं एनपीए: अमित शाह

राजस्थान में अमित शाह ने बैंकों के नॉन परफोर्मिंग एसेट (एनपीए) को लेकर कांग्रेस पर पलटवार किया और कहा कि यह एनपीए तो विपक्षी दल के पूर्ववर्ती शासन के ''कुकर्म का परिणाम'' है।

राजस्थान चुनाव/ कांग्रेस की यूपीए सरकार के कुकर्म का परिणाम हैं एनपीए: अमित शाह
X

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने बैंकों के नॉन परफोर्मिंग एसेट (एनपीए) को लेकर शुक्रवार को कांग्रेस पर पलटवार किया और कहा कि यह एनपीए तो विपक्षी दल के पूर्ववर्ती शासन के 'कुकर्म का परिणाम' है। इसके साथ ही शाह ने कहा कि मोदी सरकार आने के बाद विजय माल्या व नीरव मोदी जैसे लोग डरकर विदेश भाग गए।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी चुनावी सभाओं में बैंकों के एनपीए का मुद्दा व नीरव मोदी, विजय माल्या के कर्ज लेकर विदेश भागने का मुद्दा प्रमुखता से उठाते आ रहे हैं।

शाह ने कुचामन सिटी में इसका जिक्र करते हुए कहा कि राहुल आज जगह-जगह एनपीए की बात कर रहे हैं, लेकिन ये जो एनपीए अब हो रहे हैं, वो आपके शासन में, आपके भ्रष्टाचार से दिए गए कर्ज के हो रहे हैं। हमारे लोन के नहीं हो रहे। एक भी एनपीए ऐसा नहीं है जिसमें नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लोन दिया गया हो।

इसे भी पढ़ें- तेलंगाना चुनाव 2018ः सिद्धू बोले- गिरगिट से भी जल्दी रंग बदलते हैं के चंद्रशेखर राव

अमित शाह ने कहा कि आपके कुकर्म का परिणाम हैं ये एनपीए। भाजपा अध्यक्ष ने एक प्रमुख अखबार में छपी खबर का जिक्र करते हुए राबर्ट वाड्रा का नाम लिये बिना आरोप लगाया कि एक बहुत बड़ी कंपनी को हजारों करोड़ रुपये का कर्ज मिला और इसका कमीशन गांधी-नेहरू परिवार के दामाद के पास पहुंचा। उन कंपनियों ने कमीशन के इस पैसे से बीकानेर के पास 150 हेक्टेयर जमीन खरीदी। यह जमीन औने-पौने दाम पर खरीदी गयी। इस जमीन से अरबों करोड़ों रुपये दामाद की कंपनी के खाते में गए।

अमित शाह ने कहा कि मैं कांग्रेस अध्यक्ष से पूछना चाहता हूं कि आप इस खबर पर जवाब देना चाहेंगे या नहीं। नीरव मोदी, विजय माल्या के बैंकों से कर्ज लेकर विदेश भागने पर सवाल उठाए जाने पर शाह ने कहा कि ये सारे लोन आपके समय में दिए गए हैं और ये लोग कांग्रेस के समय इसलिए नहीं भागते थे क्योंकि उनको डर ही नहीं था। वे मानते थे इनके साथ तो अपनी पार्टनरशिप चल रही है। जैसे ही मोदी सरकार आई, उन्हें डर लगने लगा कि सलाखों के पीछे जाना पड़ेगा और उन्होंने भागना शुरू कर दिया।

अमित शाह ने कहा कि कोई कहीं भी भाग जाए, देश की पाई-पाई हम वापस लाने का काम करेंगे। भाजपा अध्यक्ष ने एक बार फिर कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र पर सवाल उठाते हुए उसे नेहरू गांधी परिवार की प्राइवेट लिमिटेड फर्म बताया।

इसे भी पढ़ें- किसान मार्च: भारी पुलिस बल की तैनाती, संसद भवन और लुटियन में यातायात प्रभावित

उन्होंने जनसमूह से कहा कि आपको कांग्रेस और भाजपा के बीच में निर्णय करना है। एक ओर मोदी और वसुंधरा के नेतृत्व में देशभक्तों की टोली जैसी भाजपा है तो दूसरी ओर ना नेता है, ना नीति है और ना सिद्धांत वाली राहुल बाबा की टीम। फैसला आपको करना है।

अमित शाह ने एनआरसी का जिक्र किया और कहा कि मोदी सरकार बनी तो हम एनआरसी लेकर और अकेले असम में 40 लाख घुसपैठियों को चिह्नित करने का काम भाजपा सरकार ने किया। उन्होंने विश्वास जताया कि राजस्थान में भाजपा की सरकार अंगद का पांव है जिसे कोई हिला नहीं सकता। शाह ने कुचामन सिटी व सुजानगढ़ में चुनावी सभा को संबोधित किया। शाम को उन्होंने सीमावर्ती गंगानगर में रोड शो किया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story