Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जोधपुर एम्स में अलग किए गए हार्ट-लिवर से जुड़े जुड़वां बच्चे, एक की मौत

जोधपुर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में हार्ट-लिवर से जुड़े जुड़वां बच्चों की सर्जरी की गई। एक बच्चे ने गंभीर हालत में दम तोड़ दिया।

जोधपुर एम्स में अलग किए गए हार्ट-लिवर से जुड़े जुड़वां बच्चे, एक की मौतजोधपुर एम्स में अलग किए गए हार्ट-लिवर से जुड़े जुड़वां बच्चे

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान जोधपुर (एम्स) में शनिवार शाम अलग किए गए हार्ट-लिवर से जुड़े जुड़वां बच्चों में से एक ने दम तोड़ दिया। दूसरे बच्चे की भी हालत गंभीर बनी हुई है। अभी शिशु वेंटिलेटर पर है। सर्जरी के बाद से ही दोनों बच्चों की तबीयत खराब हो गई थी। लेकिन पहले इनमे सुधार बताया जा रहा था। एक बच्चे की हालत ज्यादा खराब होने से उसने सोमवार शाम दम तोड़ दिया। वहीं दूसरे बच्चे की हालत स्थिर बताई जा रही है। बच्चे को अभी आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया है।


पाली के बाली कस्बे में 21 जनवरी को ममता ने शरीर से जुड़े इन बच्चों को जन्म दिया था। उसी दिन दोनों को जोधपुर एम्स रेफर किया गया। दोनों का वजन कम होने के कारण सर्जरी संभव नहीं थी। लेकिन 24 जनवरी की रात 3 बजे दोनों में से एक तबीयत बिगड़ने पर 35 डाक्टरों की टीम ने 25 जनवरी को साढ़े तीन घंटे की सर्जरी कर दोनों बच्चों को अलग कर दिया था।



2017 में भी सिर से जुड़े जुड़वां बच्चों को किया गया था अलग

यह अपने आप में पहला मामला नहीं हैं जब दो जुड़े जुड़वां बच्चों को अलग किया गया हो। दिल्ली में 2017 को एम्स के 30 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम ने 18 घंटे की मैराथन सर्जरी के बाद सिर से जुड़े जुड़वां बच्चों को अलग किया था। ओडिशा के कंधमाल जिले के सिर से जुड़े 28 महीने के जुड़वां बच्चे जग्गा और बलिया को 13 जुलाई 2017 को एम्स में भर्ती कराया गया था। उन्हें अलग करने के लिए एम्स के डॉक्टरों की टीम ने 28 अगस्त 2017 को पहले चरण की सर्जरी की थी। उड़ीसा के इस ट्विन बच्चों की सर्जरी के लिए सरकार ने 1 करोड़ का फंड दिया था।

Next Story
Top