Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

उदयपुर में जब डॉक्टरों ने जिंदा बच्चे को कर दिया मृत घोषित, ऐसे चला था पता

उदयपुर में डॉक्टरों की लापरवाही ने एक मासूम बच्चे की जान ले ली। परिजनों ने डॉक्टरों पर आरोप लगाया कि उन्होंने जिंदा बच्चे को मृत घोषित कर दिया।

हरियाणा में घर-घर जाकर डॉक्टर मरीजों का करेंगे इलाज, अस्पताल आने की जरूरत नहीं
X
डॉक्टर ने जिंदा बच्चे को किया मृत घोषित

उदयपुर के एमबी अस्पताल में डॉक्टरों की लापरवाही सामने आई है। जहां जिंदा नवजात शिशु को मृत घोषित कर दिया। जब परिवार वालों ने वापस घर लाया तो देखा कि शिशु जिंदा है। जिसे देख तुरंत गांव के ही अस्पताल में ले गया। जहां बच्चे को उदयपुर के महाराणा भूपाल राजकीय अस्पताल में रेफर कर दिया गया।

कुछ देर बाद बच्चे की मौत हो गई। परिवार वालों ने एमबी अस्पताल के डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर उसी वक्त बच्चे की सही ढंग से इलाज की जाती तो शायद आज बच्चे जिंदा होता। मृतक के परिजन उदयपुर मावली क्षेत्र का रहने वाला है।

बताया जा रहा है कि लोकेश गमेती की पत्नी को अचानक प्रसव पीड़ा होने पर परिजन चंदेसरा पीएचसी में भर्ती कराया था। जहां उन्होनें एक बच्चे को जन्म दिया। बच्चे को सांस लेने में दिक्कत आ रही थी, जिसे देखते हुए डॉक्टरों ने उदयपुर रेफर कर दिया।

जहां उदयपुर के एमबी अस्पताल के डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। बच्चे को जब वापस घर लाया तो देखा कि सांस चल रही थी। जिसे तुरंत पास के ही अस्पताल ले जाया गया। हालाकिं कुछ देर बाद बच्चे की मौत हो गई।

Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story