Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसान ऐसे करें टिड्डी दल से फसल का बचाव

ये टिड्डियां लाखों की संख्या में कई जिलों में बंट चुकी हैं। राजस्थान के बाद यह टिड्डियां यूपी की तरफ चल पड़ी हैं। यह टिड्डियों के चलते फसलों को काफी नुकसान हो रहा है। जिसके चलते किसान काफी परेशान हैं।

किसान ऐसे करें टिड्डी दल से फसल का बचाव
X

जहां भारत अभी कोरोना वायरस (Coronavirus) के संकट से जूझ रहा है। वहीं एक और खतरा देश में अपनी दस्तक दे चुका है। यह आफत देश(India) के कई राज्यों में देखने को मिल रही है। साऊछ अफ्रीकासे पाकिस्तान के रास्ते भारत के राजस्थान में टिड्डियों(Locust) का दल हमला कर चुका है। इसका असर राजस्थान के 16 जिलों में देखने को मिल चुका है। कृषि विभाग की मानें तो राज्य में 50 हजार हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्रफल प्रभावित हो चुका है। यह टिड्डियां भारी संख्या में आती हैं और फसलों तो भारी नुकसान पहुंचाती हैं।

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि ये टिड्डियां लाखों की संख्या में कई जिलों में बंट चुकी हैं। राजस्थान के बाद यह टिड्डियां यूपी की तरफ चल पड़ी हैं। यह टिड्डियों के चलते फसलों को काफी नुकसान हो रहा है। जिसके चलते किसान काफी परेशान हैं। इसी बीच आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किसान टिड्डियों से फसल का बचाव कैसे करें। आइए जानते हैं टिड्डियों से फसल का बचाव करने का तरीका।

किसान ऐसे करें टिड्डियों से फसल का बचाव

- तेज ध्वनि में शोर, ढोल नगाड़े, थालियां, डीजे, टिन के खाली डिब्बे बजाकर, पटाखे फोड़कर, ट्रैक्टर का सायलेंसर निकालकर आवाज करके टिड्डी दल को भगा सकते हैं।

- किसान अपनी फसलों को बचाने के लिए वे कीटनाशक मालाथियन जैसे कीटनाशकों का प्रयोग कर सकते हैं।

Also Read: Coronavirus: मच्छर के बैक्टीरिया से खत्म किया जा सकता है कोरोना वायरस : रिसर्च

- रासायनिक दवाईयों का प्रयोग ट्रेक्टर माउनटेड स्प्रेयर पंप में क्लोरोपायरीफॉस 20 प्रतिशत ईसी 1200 एमएल या डेल्टामेथ्रिन 2.8 प्रतिशत ईसी 625 एमएल या डाईफ्लूबेन्जूरॉन 25 प्रतिशत डब्ल्यूपी 120 एमएल या लेम्डासायलोथ्रिन 5 प्रतिशत ईसी 400 एमएल या मेलाथियान 50 प्रतिशत ईसी 1850 एमएल इनमें से किसी एक कीटनाशक को 500-600 लीटर पानी में घोलकर टिड्डियों पर छिड़काव कर सकते हैं।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story