Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गृह मंत्रालय ने पंजाब की जेलों में बंद आतंकवादियों की मांगी जानकारी, किया अलर्ट

इन आतंकी संगठनों में खालिस्तान कमांडो फोर्स, खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स और खालिस्तान लिबरेशन फोर्स शामिल हैं। जिनके बारे में खुफिया जानकारी मिली है।

Home Ministry asked for complete information about three terrorist organizations closed in Punjabपंजाब आतंकी जेल

मिनिस्टरी ऑफ होम अफेयर्स (एमएचए) ने पंजाब सरकार से राज्य की विभिन्न जेलों में बंद तीन आतंकी संगठनों के सदस्यों की डिटेल मांगी है। इन सबकी रिपोर्ट बनाकर सरकार को एक हफ्ते के भीतर एमएचए को भेजनी है। इसलिए राज्य के होम डिपार्टमेंट ने इन सब आतंकियों की लिस्ट तैयार करनी शुरू कर दी है। इन आतंकी संगठनों में खालिस्तान कमांडो फोर्स, खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स और खालिस्तान लिबरेशन फोर्स शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार इन आतंकी संगठनों से संबंधित आतंकवादी सूबे की पटियाला, नाभा अमृतसर, बठिंडा और जालंधर जेलों में बंद हैं।

सूत्रों के अनुसार इंटेलिजेंस ब्यूरो को खबर मिली है कि इन आतंकी संगठनों से संबंधित लोग, जो विदेशों में बैठे हैं, वे लगातार इनके संपर्क में हैं और ये लोग पंजाब व देश के अन्य राज्यों में माहौल खराब करना चाहते हैं। पंजाब में जो पिछले दिनों हथियारों समेत आतंकी पकड़ गए थे वे उनकी योजना का ही हिस्सा थे, जो कि किसी घटना को अंजाम देने से पहले ही पकड़े लिए गए।

यह जानकरी देनी है गृह मंत्रालय को -

* कुछ दिनों पहले पकड़े गए आतंकियों से कैसे हथियार पकड़े गए

* जो व्यक्ति गिरफ्तार हुए वे किन संगठन से जुड़े थे

* अब तक के पूछताछ में किस तरह के तथ्य सामने आए हैं

* आतंकियों से पूछताछ में जो भी जानकारी मिली है, उसके आधार पर पंजाब पुलिस ठोस कार्रवाई कर पाई है या नहीं

* जेलों में बैठकर बना रहे वारदात की योजना

* IB को यह भी जानकारी मिली है कि इन आतंकी संगठनों के सदस्य जेलों में बैठकर ही मोबाइल व इंटरनेट का इस्तेमाल अपने साथियों के साथ संपर्क साधने में सफल रहे हैं और किसी वारदात को अंजाम देने की लिए योजना बना रहे हैं। इसलिए जेल अिधकारियों को अलर्ट किया गया है कि वे ऐसे कैदियों की बैरकों चेकिंग करें।

पंजाब पुलिस अलर्ट -

आईबी द्वारा दी गई जानकारी के बाद पंजाब पुलिस अलर्ट हो गई है। डीजीपी ने पुलिस अिधकारियों और जेल अधीक्षकों को सतर्क रहने को कहा हैं। जेल अधीक्षकों को कहा गया है कि वे ऐसे लोगों को स्पेशल बैरकों में रखे और विशेष नजर रखें ताकि इन हर गतिविधि की पूरी जानकारी मिलती रहे।

Next Story
Share it
Top