Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मरा हुआ युवक 14 साल बाद मिला जिंदा, पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें क्या है मामला

पंजाब के लुधियाना से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे सुनकर हर कोई हैरान है। दरअसल एक हत्या के मामले उस समय नया मोड़ आ गया जब मरा हुआ युवक जिंदा निकला।

मरा हुआ युवक 14 साल बाद मिला जिंदा, पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें क्या है मामला
X

पंजाब के लुधियाना से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे सुनकर हर कोई हैरान है। दरअसल एक हत्या के मामले उस समय नया मोड़ आ गया जब मरा हुआ युवक जिंदा निकला। हालांकि पुलिस ने उस युवक को गिरफ्तार कर लिया है।

बता दें पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए गए युवक की हत्या का इल्जाम डीएसपी और दो एएसआई पर लगा था जोकि मुकदमें से जूझ रहे हैं। पिता नगिंदर सिंह ने बेटे हरदीप सिंह को मरा दिखाकर हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करके पुलिस कर्मियों पर केस दर्ज कराया था। पिता को सरकार ने दो लाख रुपए की सहायता भी दी थी।

खबरों के मुताबिक पुलिस ने युवक को नशे की तस्करी करने के आरोप में हिरासत मे लिया था। लेकिन वह युवक पुलिस को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा था। इसके बाद पिता ने बेटे को मरा हुआ दिखाया औक पुलिसकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज कराया। लेकिन केस अब अंतमि दौर में तो युवक और उसके पिता की साजिश का पर्दाफास हो गया।


क्या है मामला

साल 2005 में एएसआई जसवंत सिंह, हवलदार काबल सिंह और अन्य पुलिस कर्मियों की मदद से गांव रंगीयां से हरदीप सिंह को 70 किलोग्राम नशीले पदार्थ के साथ गिरफ्तार किया था। केस दर्ज करने के बाद जब पुलिस उसे पूछताछ के लिए लेकर अपने साथ जा रही थी इसी दौरान वह मौका देखकर फरार हो गया।

इसके बाद हरदीप सिंह के पिता ने पुलिस हिरासत में अवैध तौर पर रखे जाने की संदेह में वारंट अधिकारी से छापेमारी करवाई। अधिकारी ने थाना डेहलों और लताला पुलिस चौकी में रेड की थी पर हरदीप नहीं मिला। पुलिस को चकमा देकर भगाने के आरोप में हरदीप सिंह पर मुकदमे दर्ज हैं।

गांव दाया कलां के छप्पड़ से 17 सितंबर 2005 को एक अज्ञात व्यक्ति का शव बरामद हुआ था। हरदीप सिंह के पिता ने बताया था कि यह शव उसके बेटे का है। इसके बाद उसने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा है जो शव छप्पड़ से बरामद हुआ वह उसके बेटे हरदीप का था।

उसने पुलिस पर आरोप लगया कि हरदीप की हत्‍या कर शव फेंक दिया गया। सेशन जज ने तत्कालीन डीएसपी अमरजीत सिंह खैहरा, एएसआई जसवंत सिंह और हवलदार काबल सिंह के खिलाफ हत्‍या के आरोप में मामला दर्ज करने का आदेश दिया। साल 2010 में हत्या का केस दर्ज किया गया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story