Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अमृतसर रेल हादसा: मां की करुणा पुकार ''मुझे मेरा बेटा लौटा दो''

एक स्थानीय शख्स ने कहा कि कई बार हमने अधिकारियों और स्थानीय नेताओं से कहा है कि इस मुद्दे को रेलवे के साथ उठाएं कि दशहरे के दौरान फाटक के पास ट्रेनों की गति को कम रखा जाए, लेकिन किसी ने हमारी बात नहीं सुनी।

अमृतसर रेल हादसा: मां की करुणा पुकार

पंजाब में रावण दहन देख रहे लोग ट्रेन की चपेट में आने से 61 की मौत हो गई है जबकि 72 अन्य घायल हो गए। मौके पर कम से कम 300 लोग मौजूद थे जो पटरियों के निकट एक मैदान में रावण दहन देख रहे थे। तभी अचानक ट्रेन आई और लोगों को कुचलते हुए आगे निकल गई।

जिसके बाद मौके पर चीख-पुकार मच गई, लोग बदहवासी में अपने करीबियों को तलाशने लगे। क्षत-विक्षत शव घटना के घंटों बाद भी घटनास्थल पर पड़े थे। उसी दौरान एक गमगीन महिला ने कहा कि मैंने अपना नाबालिग बेटा खो दिया। मुझे मेरा बेटा लौटा दो।

इसे भी पढ़ें: Video: अमृतसर रेल हादसे का दर्दनाक वीडियो

एक स्थानीय शख्स ने कहा कि कई बार हमने अधिकारियों और स्थानीय नेताओं से कहा है कि इस मुद्दे को रेलवे के साथ उठाएं कि दशहरे के दौरान फाटक के पास ट्रेनों की गति को कम रखा जाए, लेकिन किसी ने हमारी बात नहीं सुनी।

एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि पटाखों के शोर की वजह से लोगों को आ रही ट्रेन की आवाज नहीं सुन सकी। वहीं अधिकारियों ने बताया कि एक ही वक्त दो विपरीत दिशाओं से एक साथ दो ट्रेनें आईं और एक ट्रेन की चपेट में कई लोग आ गए।

Share it
Top