Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

विधायक के विवादित बोल के बाद परिजनों ने जड़ा थप्पड़, जानें पूरा मामला

डीजे संचालक युवक करन सिंह की हत्या के मामले में विधायक बोले- ऐसी मौतें तो होती रहती हैं। इस बात पर गुस्साए परिजनों और अन्य लोगों ने गाड़ी पर हमला कर थप्पड़ भी मारे।

विधायक के विवादित बोल,परिजनों ने जड़ा विधायक को थप्पड़परिजनों ने किया विधायक की गाड़ी पर हमला

डीजे संचालक युवक की हत्या के मामले में परिवार का हाल जानने के लिए धर्मकोट के कांग्रेसी विधायक सुखजीत सिंह लोहगढ़ सिविल अस्पताल पहुचें थे। इसी दौरान विधायक ने लोगों के सामने ही कह दिया कि ऐसी मौतें तो होती रहती हैं। यह बात सुनते ही परिजनों और अन्य लोगों ने भड़क गए। भड़के लोगों ने विधायक की गाड़ी पर हमला कर दिया और उन्हें थप्पड़ भी मारे। लोगों के गुस्से को देखकर विधायक के ड्राइवर ने गाड़ी रिवर्स भगानी शुरू कर दी। काफी दूरी तक पीछे जाने के बाद विधायक गाड़ी से निकल एक घर में घुस गए। इसी दौरान विधायक के गनमैन ने अपने बचाव में लोगों पर सरकारी राइफल तान दी। सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और लोगों को शांत करवाया।

दरअसल मामला यह था कि मृतक करन सिंह का परिवार मांग कर रहा था कि आरोपियों की गिरफ्तारी की जाए और पीड़ित परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और 25 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए। परिवार से मिलने पहुंचे विधायक ने जब यह मांगें सुनी तो अस्पताल में ही लोगों के सामने विवादित टिप्पणी कर दी।

वहीं दूसरी ओर गुस्साए परिजनों ने सिविल अस्पताल में धरना लगा दिया। कुछ समय विरोध प्रदर्शन करने के बाद एसएसपी दफ्तर चला गया और देर रात तक पीड़ित परिवार एसएसपी कार्यालय के सामने धरने पर बैठा था। उनके समर्थन में प्रदेश के पूर्व कृषि मंत्री भी मौके पर पहुंच चुके थे।

एसपी, एच रतन सिंह बराड़ का कहना है कि विधायक की गाड़ी पर हमला करने का वीडियो उन्होंने सोशल मीडिया पर देखा है। जैसे ही विधायक पुलिस को हमलावरों के खिलाफ लिखित शिकायत देते हैं तो पुलिस द्वारा तुरंत इस मामले में कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा मृतक के हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस टीम छानबीन में जुटी है। जल्द ही सभी आरोपी को पुलिस गिरफ्तार कर लेगी।

वहीं विधायक का कहना है कि मेरे बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया गया। मुझ पर राजनीतिक साजिशों के आधार पर जानलेवा हमला किया गया। राजनीतिक आकाओं के इशारे पर पीड़ित परिवार को गुमराह किया गया। मैं अब भी पीड़ित परिवार के साथ हूं।

Next Story
Share it
Top