Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रमेश ठाकुर का लेख : अतिप्रिय युवा अभिनेता का यूं चले जाना

अल्प अवधि में करियर में सफलता की बुलंदियां छूने वाले युवा अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या पर अनायास संदेह होता है? एकाएक कोई विश्वास नहीं कर पा रहा। बहुतेरे ऐसे सवाल हैं जिसके जबाव आज सुशांत की मौत पर आकर रुक रहे हैं।

रमेश ठाकुर का लेख : अतिप्रिय युवा अभिनेता का यूं चले जाना
X

रमेश ठाकुर का लेख

आत्महत्या और नाकामी, दो ऐसे पहलू हैं जिनका आपस में गहरा संबंध होता है। नाकामी और असफलता हाथ लगने के बाद व्यक्ति ऐसा करने को प्रेरित होता है। सुसाइड से जुड़े आंकड़े बताते हैं जो इंसान अपनी जिंदगी में असफल होता है, वह मौत को अपने गले लगाता है। असफल व्यक्ति के लिए तब आत्महत्या अंतिम सहारा बनती है, लेकिन ऐसी घटनाओं पर उठने वाले सवाल तब ठहर जाते हैं जब ऐसे कदम उठाने वाले को आत्महत्या करने की जरूरत ही नहीं? अपने जीवन से खुश, कोई दिक्कत नहीं कोई परेशानी नहीं है। फिल्म जगत से ऐसी ही एक दर्दनाक खबर आई। जहां एक युवा और अतिप्रिय अभिनेता ने मौत को साथी बना लिया हो। मुंबई में सुशांत सिंह राजपूत ने खुदकुशी कर ली।

अल्प अवधि में करियर में सफलता की बुलंदियां छूने वाले युवा अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या पर अनायास संदेह होता है? एकाएक कोई विश्वास नहीं कर पा रहा। बहुतेरे ऐसे सवाल हैं जिसके जबाव आज सुशांत की मौत पर आकर रुक रहे हैं। पुलिस का बयान आया है। बहुत ही जल्दी उन्होंने घटना को आत्महत्या करार दे दिया है। जबकि, घटना अनहोनीे होने का संदेह पैदा करती है। आत्महत्या करने की कोई खास वजह भी दिखाई नहीं पड़ती। खबर सुनकर सुशांत के परिजन स्तब्ध हैं, निशब्द हैं। पिता खबर सुनने के बाद से ही बेसुध हैं। परिवार के लोग मानने को राजी नहीं हैं कि सुशांत ऐसा कायरतापूर्ण कदम उठाएगा। स्थिति को देखकर लगता है मामला पुलिस को नहीं, बल्कि फॉरेंसिक जांच के लिए सौंपा जाए। तभी कुछ निकल कर सामने आ पाएगा। नहीं तो ये घटना भी दिव्या भारती और श्रीदेवी की मौत की तरह पहेली बनकर रह जाएगी और किसी को कुछ पता नहीं चल पाएगा।

जो लोग सुशांत सिंह को करीब से जानते हैं उन्हें पता था कि वे बहुत जिंदादिल अभिनेता थे। पढ़ाई-लिखाई में भी हमेशा अव्वल रहे। उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की हुई थी। बिहार के पूर्णिया जिले के मलडीहा जैसे गांव से पटना तक पहुंचे एक नौजवान जो कि पढ़ने में इतना तेजतर्रार था कि पहली कोशिश में ही देशभर में सातवां स्थान पाकर टाॅपर रहे। फिजिक्स में ओलंपियाड जीता हो, खेल जगत में भी आगे रहता हो, उस व्यक्ति का आत्महत्या जैसा कदम उठाना निश्चय ही गले उतरने

वाला नहीं।

कहा जा रहा है कि सुशांत पिछले कुछ महीनों से डिप्रेशन में थे। रोजाना दवाइयां लेते थे। अगर डिप्रेशन में थे भी तो कोई बड़ी बात नहीं, कई लोग इस समस्या से ग्रस्त हैं, पर आत्महत्या तो कोई नहीं करता। सुशांत सिंह राजपूत ने रविवार को बांद्रा के हिल रोड स्थित अपार्टमेंट की 12वीं मंजिल पर मौजूद थे। वहीं पर उन्होंने फांसी लगाई।

रविवार दोपहर के वक्त नौकर जब घर में पहुंचा तो उसने दरवाजा खोलने की कोशिश की, नहीं खुला तो उसने पुलिस को सूचना दी। चाभी बनाने वाले की मदद से पुलिस ने जब दरवाजा खोला तो देखा कि सुशांत फांसी पर झूल रहे हैं। पुलिस ने उनके शव को पंखे से उतारा। पुलिस हालांकि जांच करके ही किसी नतीजे पर पहंुचेगी। फिलहाल सुसाइड होना ही बताया जा रहा है। सुशांत में औरों को अपना बनाने की सबसे बड़ी खूबी थी। सामने वाले से तुरंत घुल-मिल जाते थे। उनमें घमंड-गुरूर, दूर-दूर तक नहीं था। सवाल यही है जिसका करियर टॉप पर हो, लाखों फॉलोअर्स हो, बड़ी फ्रेंड फॉलोइंग हो, घर-परिवार खुश होने के बावजूद कोई ऐसा मूर्खतापूर्ण कदम क्यों उठाएगा?

वैसे इंसान अक्सर हार-जीत, सफलता-असफलता के फेर में ऐसे फंस जाता है जिससे भूल जाता है कि जिंदगी में सबसे जरूरी जिंदगी होती है। दरअसल, यह हमारी कमी है, हमारे इस आधुनिक समाज के बनाए ताने-बाने की वह फसलें हैं जिन्हें हम खुद बोते हैं। चार दिन पहले ही सुशांत राजपूत की मैनेजर की मौत हुई थी और अब सुशांत ने मौत को गले लगा लिया। दोनों की मौत में हो सकता है कोई संबंध हो! निश्चित रूप से पुलिस दोनों की अनसुलझी कड़ियों को आपस में जोड़ेगी। सुशांत की मैनेजर की मौत हुई, तो व्यक्तिगत मामला मानकर लोगों ने ज्यादा ध्यान नहीं दिया, क्योंकि आधुनिक समाज में कहां किसी को समय है और हम भी तो अपनी निजता को लेकर इतने जागरूक या सचेत होते हैं कि कोई हमारी परेशानी के बारे में पूछ लें तो बोलते हैं 'आपको क्या? हो सकता है मैनेजर की मौत से सुशांत परेशान हों, टूट चुके हों, लेकिन निजता के सम्मान में किसी ने उनको समझने-समझाने की कोशिश नहीं की हो, नतीजा उनको अवसाद तक ले आया और आत्महत्या के मुहाने छोड़ दिया हो।

सुशांत ने हाल ही में छिछोरे नाम की फिल्म में भूमिका निभाई थी जो आत्महत्या जैसी कहानी पर केंद्रित थी। फिल्म में सुशांत ने सुसाइड की कोशिश करने वाले अपने बेटे को जीने का हौसला देने वाले पिता का रोल निभाया था, लेकिन उन्होंने जो रील में बताया वह असल जिंदगी में उससे एकदम विपरीत करके चले गए।

दरकार अब इस बात की है सुशांत सिंह राजपूत की मौत आत्महत्या है या हादसा, उचित जांच होनी चाहिए। जांच का माकूल निष्कर्ष भी निकलना चाहिए, क्योंकि सच्चाई का सभी को बेसब्री से इंतजार रहेगा। ये घटना भी दिव्या भारती की तरह अंजाम से पहले थकनी नहीं चाहिए। इसके साथ ही फिल्म जगत से जुड़े लोग क्यों आत्महत्या करते हैं यह स्थिति पूरी तरह से साफ होनी चाहिए। सुशांत की मौत पर जो संदेह जताया जा रहा है उससे पर्दा हटना चाहिए। सुशांत को श्रद्धांजलि।

Next Story