Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

व्यंग्य : सुपरहिट राजनीतिक योगासन

सरकार में बने रहने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। तन-मन-धन, सब स्वस्थ रहता है।

व्यंग्य : सुपरहिट राजनीतिक योगासन
X
वैसे तो आम आदमी के लिए, ये राजनीतिक आसन बेहद कठिन हैं, क्योंकि इन्हें करने के लिए मजबूत हृदय चाहिए। लेकिन राजनीतिक गलियारों में अपना भविष्य संवारने की चाहत रखने वालों के लिए ये आसन बहुत उपयोगी हैं।
-------------------------------------------
मखनूमल जी आधुनिक समय के राजनीतिक पंडित हैं। बाल्यकाल से ही राजनीति शास्त्र को जन्मघुट्टी की तरह पिए जा रहे हैं। अबतक के जीवनकाल में उन्हें किसी दीगर शास्त्र अथवा पाठ को पढ़ने की आवश्यकता नहीं पड़ी। बताया जाता है कि राजनीति के दांव-पेंच उन्होंने पांच वर्ष की आयु से ही प्रारंभ कर दिए थे। इसी कारण कुछ विद्यालय और महाविद्यालय उनके दर्शन को तरस गए। एक तरह से राजनीति ही उनकी जीवनी है। अपनी इस विशेषता के कारण ही आज वो एक स्थानीय पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हैं।
दो दिन पूर्व उनसे मुलाकात हुई। बीच में योग पे भी बात हुई। वह बताने लगे कि वैसे तो राजनीतिक योग करने में निष्णात हैं। बावजूद इसके, इन दिनों वे शारीरिक योग का अ•यास कर रहे हैं। मैंने उनसे योग के विषय में कुछ ज्ञानवर्धक बातें साझा करने का विनम्र निवेदन किया। वह बोले, ‘तुम्हारे जैसे आम आदमी के लिए, ये राजनीतिक भी बेहद कठिन हैं, इन्हें करने के लिए मजबूत हृदय चाहिए। फिर भी तुम्हारे निवेदन पर बताता हूं।’ फिर मखनू जी ने विस्तार से बताया।
उत्कोचासन- साधारणत: इसे ‘घूसखोरासन’ भी कहते हैं। इस आसन को करते समय सरकारी कुर्सी पे बैठना आवश्यक है। आप (योगी) के समक्ष एक मेज भी रखी होनी चाहिए। दोनों हाथों को मेज के नीचे ले जाएं। आंख बंद करके कुछ क्षण ध्यान लगाएं। सोचें कि आपके शरीर ने वस्त्र धारण किए हैं, परंतु आत्मा निर्वस्त्र महसूस कर रही है। अब हाथों को मेज के नीचे से ही स्ट्रेच करते हुए दूसरी ओर ले जाने का प्रयास करें। प्रारंभ में कठिनाई होगी। ईमान मे दर्द उठेगा। टूटने का खतरा होगा। निरंतर अभ्यास करने से हाथ मेज की दूसरी ओर पहुंच जाएंगे। ध्यान रहे, ईमानदारी का खारा पानी पीने वाले इस आसन को कदापि न करें। आसन करते समय, अति-विश्वसनीय लोगों को ही साथ रखें। हो सके तो पहले इस आसन के ज्ञाताओं से थोड़ा ज्ञानार्जन अवश्य करें।
पत्नी समेत पूरा परिवार खुश रहेगा। वेतन कम होने के बावजूद भी गाड़ी, बंगला, बैंक बैलेंस आदि का ‘योग’ अबाध्य रूप से आपके साथ हो जाता है। असत्यासन (झूठासन)-चलते-फिरते कहीं भी, किसी भी समय किया जाने वाला आसन। इसके लिए जीभ को झूठ की लार से भिगोते रहें। दिल की सुनना बंद कर दें। सच सुनना अपने आप ही बंद हो जाएगा। जब सच सुनेंगे नहीं, तो बोलेंगे भी नहीं। प्रतिदिन आधा घंटा अभ्यास करने से इस आसन में महारत हासिल होगी। असत्यासन करते समय, अपने समक्ष महात्माओं की तस्वीरें कदापि न रखें। इससे भटकाव पैदा होता है। चाहें तो भगवान की फोटो लगा सकते हैं। भगवान की तस्वीर पास रखकर यह आसन करने मे उतनी ही सरलता होती है, जितनी सरलता गीता पर हाथ रखकर तथाकथित सच बोलने में होती है। लाभ धंधा कोई भी हो, चमक उठेगा। यह आसन ‘उत्कोचासन’ में भरपूर सहयोग करता है।
हिंसासन- ‘राजनीतिक योगार्थियों’ को यह आसन अनिवार्य रूप से करना चाहिए। इसे करते समय पैसे और अहंकार का हीटर चालू करें। दिमाग को छोड़कर, समस्त शरीर में गर्मी पैदा करें। हाथ-पैर इस तरह से चलाएं, जिससे लगे कि आप हिंसासन कोख से ही सीख कर आए हैं। आसन करते समय ‘एनर्जी ड्रिंक’ के रूप मे चार ‘ट्रेंड गुंडे’ अपने आसपास रखें। सबकी कमर पे ‘गन’ नामक यंत्र हो तो और भी अच्छा होगा। हिंसासन अकेले में करना भारी पड़ सकता है।
लाभ : हिंसासन को निरंतर करते रहने से आप जल्द ही ख्याति प्राप्त कर सकते हैं। तमाम राजनीतिक दलों में प्रवेश करने हेतु, यह आसन एक महत्वपूर्ण क्वालिफिकेशन माना जाता है।
घपलासन-धन लोलुप मनुष्यों को यह आसन खुद-ब-खुद आ जाता है। घपलासन करते समय अपने मन से ईमानदारी, सच्चाई और कर्तव्यपरायणता आदि अवरोध पूर्णत: मिटा दें। मन को शांत कर धन पर केंद्रित करें। इस आसन को करते समय बस इतनी ही सावधानी रखें कि अन्य ‘घपलायोगाचार्य’ सरकार मे हों। अथवा दूसरी पार्टी के घपलाचार्यों से सामंजस्य बना कर रखें।
लाभ: घपलासन अत्यंत लाभकारी आसनों में से एक है। देखते ही देखते आप लखपति-करोड़पति बन सकते हैं।
आया-गया-आसन: अनवरत और सबसे ज्यादा किया जाने वाला आसन है। इस आसन को करते समय ‘योगी’ को अपने आंख-कान खुले रखने चाहिए। लाज के कमरे में ताला लगाकर, अवसर के खुले मैदान में यह आसन करें। हर पार्टी मे मौकानुसार हाथ-पांव मारते रहें। आदर्शवादी टाइप लोगों को यह आसन करने से बचना चाहिए। उनके लिए यह लाभकारी नहीं है।
लाभ: सरकार में बने रहने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। तन-मन-धन, सब स्वस्थ रहता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top