Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

व्यंग्य : नेता जी की महानता

नेता नेतृत्व करने में कब पीछे हटा है या फिर हल्का पड़ा है?

व्यंग्य :  नेता जी की महानता
संदीप सक्सेना -
नेता नेतृत्व करने में कब पीछे हटा है या फिर हल्का पड़ा है? वह बेईमानी का नेतृत्व करता है, भ्रष्टाचार का नेतृत्व करता है, घपले-घोटालों वगैरा का नेतृत्व करता है, आश्वासन देने व भावुकता दिखाने तथा कोमल विचारों को प्रकट करने जैसे बेहद उच्च कोटि के भावों का प्रतिनिधित्व करता है, वह सबके दु:ख-दर्द में शामिल होने व आंसू बहाने के साथ ही साथ सबकी खुशी में शामिल होने जैसे अतिमहान भावों का नेतृत्व करता है।
--------------------------------------------
वह क्या है भाई लोगों कि इस नाचीज की बेहद खासम-खास बॉडी में सलीके से रक्खे दिल-दीवाने में पहले तो कभी-कभी, और फिर अकसर ही यह ख्याल आने लगा है कि अपने भारत-महान में अगर कुछ चीजें न होतीं, तो फिर इसकी शक्ल कैसी होती। अब मसलन नेता-प्रजाति के जीवों को ही ले लीजिए। इनके बारे में कुछ बातें ऐसी हैं, जिससे कि इत्तेफाक रखना इस नाचीज की फितरत में ही नहीं है। होता क्या है कि लोग अकसर इस प्रजाति-महान के जीवों की बहुत बुराई करते हैं, उनको बेहद आलोचना की दृष्टि से देखते हैं, और उनको नेता-बंदे में कमियां ही कमियां नजर आती हैं।
ऐसा आखिर क्यूं? अपुन के गले के नीचे कभी नहीं उतरा, नेता नाम के जीव में बुनियादी तौर पर आखिर कहां क्या कमी है, मुझे कभी- कभी समझ में नहीं आया। कभी किसी नेता जी को बारीकी से ताड़ा है आपने, न ताड़ा हो तो अब ताड़ लीजिएगा, न नहाए तो भी नहाए-नहाए से खिले-ताजे लगते हैं। बकौल इस नाचीज के नेता एक बहुत ही समझदार, संवेदनशील, नेक, ‘सद आचरण’ करने वाला तथा बेहद ईमानदार प्राणी होता है। अपने धर्म व कर्त्तव्यों के निर्वाह के मामले में वह बेहद कट्टर तथा पक्के इरादों वाला बंदा होता है, और उससे कोई भी समझौता करना अगले के स्वभाव में ही नहीं होता है।
अब आप ही देख लो न कि नेता ‘बेसिकली’ कितना सच्चा होता है कि नेता शब्द के धर्म को सौ फीसदी जीता है। नेता का मतलब ही होता है कि नेतृत्व करने वाला, और इस मामले में देखिए कि नेता नेतृत्व करने में कब पीछे हटा है या फिर हल्का पड़ा है? वह बेईमानी का नेतृत्व करता है, भ्रष्टाचार का नेतृत्व करता है, घपले-घोटालों वगैरा का नेतृत्व करता है, आश्वासन देने व भावुकता दिखाने तथा कोमल विचारों को प्रकट करने जैसे बेहद उच्च कोटि के भावों का प्रतिनिधित्व करता है, वह सबके दु:ख-दर्द में शामिल होने व आंसू बहाने के साथ ही साथ सबकी खुशी में शामिल होने जैसे अतिमहान भावों का नेतृत्व करता है।
जैसी स्थितियां हों, जिस तरह की हवा बह रही हो, उसके हिसाब से अपने को ढाल लेने या फिर गिरगिटी-रंग बदल लेने की कुशलता का नेतृत्व करता है। यानी कि एक लंबी फेहरिस्त बन सकती है इस महान जीव के नेतृत्व करने की क्षमताओं की।
अब आप ही विचारो कि अपने नेता-महान में कहां पर और क्या कमी है। अपने नेता जी के साथ सबसे बड़ी ट्रैज्डी तो यह रही कि उनके बेहद भावनात्मक व पवित्र-अटूट ‘कुर्सी-प्रेम’ को अत्यंत गलत तरीके से अपने यहां लिया गया है व उनको शक-शुबहा की नजरों से देखा गया है।
और सबसे बड़ी बात तो यह कि नेता जी बहुत ही सज्जन, सीधे-सादे व भोले-भाले जीव होते हैं, अब इस मामले में कईयों का यह भी सोचना होता है कि वे ऊपर से भले और अंदर से भोले होते हैं। पर अपना यकीन तो इस पर बिल्कुल भी नहीं है।
नेता-जीव ने मुझे हमेशा ही बेहद भीतर तक प्रभावित किया है, यह कभी किसी का बुरा न तो सोचता है और न ही करता है। हमेशा सबके हित की ही बात करता है, विकास और प्रगति ही उसकी सोच-विचार का मूल मंत्र होते हैं, फिर चाहें वह किसी की भी हो।
उसके मुख से मक्खन के समान कोमल बोल व आदर्श वाक्य झरते हैं, ऐसी मिसाल कहीं और देखने को नहीं मिलेगी आज की दुनिया में। इस घोर कलियुग में अब आप ही देखो न कि इंसान नाम के जीव का कितना पतन हो चुका है, और ऐसे में भी नेता जी अपनी निश्चित व पूर्वनिर्धारित राह पर जिस तरह से बखूबी चल रहे हैं, वैसी मिसाल कहीं और मिलना अगर असंभव नहीं तो बेहद कठिन अवश्य ही है।
नेता जी में जो लचीलापन, अपने में तड़ से परिवर्तन कर लेने की जो बेहद जादुई कला होती है, उसका तो नाचीज बेहद मुरीद हो चुका है। नेता क्या, पानी कहिए पानी। जिस रंग में मिला दें उसी रंग का हो जाएगा। नेता समाजवादी हो जाता है, नेता पूंजीपति सोच का बन सकता है, नेता अल्पसंख्यकों का मसीहा हो सकता है, यानी कि नेता जी एक और तेरे रूप अनेक। ऐसी गजब की पर्सनालिटी को लोग आखिर कैसे हलके में ले लेते हैं, मुझे आज तक समझ में नहीं आया। जरा विचारें तो कि ऐसी विभूति अपने भारत महान में क्या खासुलखास स्थान रखती है, तभी तो चाहे और कोई माने या न माने, पर अपने को तो यही कहना पड़ता है कि नेता जी
आप महान हो... गुणों की खान हो।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top