Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

संपादकीय लेख : लापरवाही बरतने से बढ़ेगा कोरोना की तीसरी लहर का खतरा

कोरोना के केस कम हुए हैं, लेकिन यह गया नहीं है। देश अभी कोविड मुक्त नहीं हुआ है। चिकित्सा विशेषज्ञ यह भी बता रहे हैं कि हाल फिलहाल में कोरोना के जाने के आसार भी नहीं हैं। इसलिए हमें लापरवाह नहीं होना है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की तीसरी लहर की चेतावनी को गंभीरता से लिए जाने की जरूरत है।

संपादकीय लेख : लापरवाही बरतने से बढ़ेगा कोरोना की तीसरी लहर का खतरा
X

संपादकीय लेख

Haribhoomi Editorial : कोरोना के केस कम हुए हैं, लेकिन यह गया नहीं है। देश अभी कोविड मुक्त नहीं हुआ है। चिकित्सा विशेषज्ञ यह भी बता रहे हैं कि हाल फिलहाल में कोरोना के जाने के आसार भी नहीं हैं। इसलिए हमें लापरवाह नहीं होना है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की तीसरी लहर की चेतावनी को गंभीरता से लिए जाने की जरूरत है। अभी हाल में स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी धार्मिक व टूरिस्ट प्लेसों पर उमड़ी भीड़ को लेकर सख्त हिदायत दी थी कि अगर लोग नहीं मानेंगे तो लॉकडाउन में दी गई छूट वापस ले ली जाएगी। संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा था कि कोरोना की दूसरी लहर सीमित दायरे में ही सही, लेकिन अब भी मौजूद है, इसलिए हिल स्टेशनों पर भारी भीड़ करना अब तक के फायदे को कम कर सकता है। आईएमए ने कहा है कि तीसरी लहर नजदीक है। ऐसे में टूरिज्म और धार्मिक यात्राओं के लिए कुछ और महीने इंतजार कर सकते हैं। देश के कई हिस्सों को अनलॉक कर दिया गया है और टूरिस्ट स्पॉट में लोगों की भीड़ जमा होनी शुरू हो गई है। यह ठीक नहीं है।

कोविड-19 के म्यूटेंट बदलते रहने से नए नए वैरिंएंट पैदा हो रहे हैं और अलग-अलग देशों में फेल रहे हैं। भारत में डेल्टा वैरिएंट के केस आए हैं। इतिहास में जितनी भी महामारियां आई हैं, उन्हें देखा जाए तो ये साफ है कि तीसरी लहर को टाला नहीं जा सकता है। ये बेहद करीब है। यह देखकर बहुत दुख हो रहा है कि देश के कई हिस्सों में जनता और सरकार, दोनों ही लापरवाह हैं। सभी बिना कोविड प्रोटोकॉल का पालन किए भीड़ इकट्ठा करने में जुटे हैं। टूरिज्म, धार्मिक यात्राएं और उसका उत्साह, ये सभी बहुत जरूरी हैं, लेकिन लोग कुछ और महीने इंतजार कर सकते हैं। इन सभी को खोलना और लोगों को बिना वैक्सीनेशन के इन स्थानों पर जाने देना खतरनाक है। ये कोरोना की तीसरी लहर के लिए सुपरस्प्रेडर बन सकते हैं। पिछले डेढ़ साल के अनुभव को देखा जाए तो वैक्सीनेशन के जरिए तीसरी लहर के असर को काफी कम किया जा सकता है। इसके साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। आईएमए की हिदायत है कि इस नाजुक मुकाम पर हमें अगले दो-तीन महीने तक कोई खतरा नहीं उठाना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद कई मौकों पर लोगों से आह्वान किया है कि कोरोना अभी गया नहीं, इसलिए ढिलाई नहीं बरतें। इससे पहले बेंगलुरु के 40 चिकित्सकों की टीम ने अपने अध्ययन के आधार पर सितंबर से नवंबर के बीच तीसरी लहर आने की भविष्यवाणी कर रखी है। नीति आयोग के सदस्य (चिकित्सा) डा. वीके पॉल ने भी तीसरी लहर की आशंका बहुत पहले जता दी थी। चूंकि अभी-अभी हम घातक दूसरी लहर से बाहर निकले हैं, ऐसे में हमारी किसी प्रकार की लापरवाही हम पर भारी पड़ सकती है। तीसरी लहर न आए, यह पूर्णतया हम पर निर्भर है। हम अगर भीड़ नहीं होने देंगे, तो वायरस कम्युनिटी में नहीं फैलेगा। कोरोना से बचाव के सभी प्रोटोकॉल का पालन करते रहेंगे, अपनी इम्यूनिटी को मजबूत रखेंगे और खुद वैक्सीन लगवा लेंगे, तो तीसरी लहर से बचा जा सकता है। देश में 21 जून से टीकाकरण की बढ़ी रफ्तार को जारी रखना होगा, जितनी तेजी से वैक्सीनेशन होगा, हर्ड इम्यूनिटी उतनी जल्दी बनेगी। कोरोना से निजात के लिए जरूरी है कि देश में जल्द से जल्द हर्ड इम्यूनिटी बने। हमें कोरोना के साथ जीने की आदत यानी न्यू नॉर्मल की तरफ बढ़ना चाहिए। मान लें कि निकट भविष्य में कोविड से पिंड नहीं छूटने वाला है, इसलिए दो गज दूरी की एहतियात बरतते हुए मास्क के साथ जीने की कला अपनानी चाहिए। यही हमारी न्यू नॉर्मल जीवनशैली होनी चाहिए।

Next Story