Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

केंद्र में बनने वाली है राजग की सरकार !

एग्जिट पोल की ही माने तो कांग्रेस को ऐतिहासिक हार का सामना करना पड़ सकता है।

केंद्र में बनने वाली है राजग की सरकार !

नई दिल्‍ली. भारतीय लोकतंत्र का महापर्व रिकॉर्ड मतदान के साथ समाप्त हो गया। अब सबको शुक्रवार, 16 मई का इंतजार है, जब पूर्ण रूप से नतीजे आ जाएंगे। इस बीच एग्जिट पोल ने संभावित सरकार की रूप रेखा देश के सामने प्रस्तुत कर दी है। सभी भारतीय जनता पार्टी की बढ़त दिखा रहे हैं और कुछ तो यहां तक संकेत दे रहे हैं कि उसके नेतृत्व में राजग की सरकार बनने जा रही है। हालांकि यह कितना सच होगा दावे के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता पर एक बात तो तय है, देश की जनता सत्ताधारी कांग्रेस से बिलकुल ऊबी हुई है और उसकी नाराजगी नतीजों में परिलक्षित हो तो कोईआश्चर्य नहीं होगा।

एग्जिट पोल की ही माने तो कांग्रेस को ऐतिहासिक हार का सामना करना पड़ सकता है। एग्जिट पोल से वास्तविकता पर खरे उतरने की उम्मीद इसलिए ज्यादा रहती है, क्योंकि ये मतदान के पश्चात मतदाता के निर्णय को जानने की कोशिश करते हैं और निर्वाचन आयोग की बाध्यता के चलते इनका खुलासा भी देश में पूर्ण रूप से मतदान समाप्त हो जाने के बाद किया जाता है। इसलिए कोई राजनीतिक दल स्वयं पैसा खर्च कर एग्जिट पोल नहीं कराता। इसलिए ये रुझान परिणाम के निकट पहुंच सकते हैं। हालांकि यह कतई जरूरी नहीं कि अनुमान सटीक बैठें ही, क्योंकि पिछले कई पोल गलत साबित हुए भी हैं।

वहीं यह भी जरूरी नहीं राजनीति में हर बात हमेशा सच ही साबित हो। इस बार देश का मूड जिस तरह था, उसे देखते हुए इसे सिरे से खारिज भी करना उचित नहीं हो सकता। एग्जिट पोल ही नहीं चुनाव पूर्वहुए ओपिनियन पोल तक ने एनडीए की बढ़त और यूपीए की हार की भविष्यवाणी करते रहे। चुनाव पूर्व सभी सर्वे में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री के उम्मीदवार के रूप में लोगों की पहली पसंद थे। यदि सर्वे सच साबित होते हैं तो भारतीय जनता पार्टी का यह सर्वर्शेष्ठ प्रदर्शन होगा। यही नहीं भारतीय संसदीय इतिहास में भी 1984 के बाद से 250 सीटों का आंकड़ा पार करने वाली पहली पार्टी बन जाएगी।

यदि एनडीए को स्पष्ट बहुमत मिलता है तो वह देश के लिए अच्छा ही कहा जाएगा। क्योंकि गठबंधन की राजनीति की अपनी मजबूरियां रही हैं। एक-आध राज्यों को छोड़ दें तो अधिकांश राज्यों में एग्जिट पोल में भाजपा को बेहतर स्थिति में दिखाया गया है। जिन राज्यों में उसकी सरकार है, वहां उसके मजबूत होने की एक वजह वहां पहले से काम कर रही भाजपा सरकारों के बेहतर प्रदर्शन भी हैं। वहीं जिस तरह से मोदी ने देश भर में प्रचार किया और लोगों में एक उम्मीद जगाई उसी का नतीजा है कि भाजपा दूसरे राज्यों में भी मजबूत स्थिति में दिखाईदे रही है।

इससे भी बढ़कर कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार की हर मोर्चे पर नाकामी ने सत्ता में वापसी का एक मजबूत आधार तैयार किया। भ्रष्टाचार, महंगाई, गिरती अर्थव्यवस्था, कमजोर रुपया, लचर विदेश नीति और नीतिगत अपंगता के साथ साथ केंद्र में कमजोर नेतृत्व ने देश को जिस बदहाली की स्थिति में पहुंचा दिया है, उससे निकलने का एकमात्र जरिया नरेंद्र मोदी ही दिखाई दे रहे थे। क्योंकि वे अपने प्रचार अभियानों में खुद को बदलाव के मसीहा के रूप में पेश करने में सफल रहे। यही सब बातें भाजपा के पक्ष में जाती हुई प्रतीत हो रही हैं।

Next Story
Top