Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हिंदी दिवस पर व्यंग्य, नेताजी का हिंदी दिवस, नहीं रुकेगी हंसी

हिंदी दिवस के लिए एक समिति का गठन कर दिया गया है, जिसके सदस्य सर्व श्री अमेरिका रिटर्न मिस्टर हेल्लो कुमार, ग्रेट ब्रिटेन में पली-बढ़ी एनआरआई मिस एक्सक्यूज़ मी और युवा सदस्य के तौर पर जर्मनी से डिग्री लेकर आए मास्टर सॉरी को स्थान दिया गया है। देश में ये तीन ही हैं, जो धूम मचा रहे हैं बाकी हिंदी दिवस तो हम एक दिन मना ही रहे हैं।

हिंदी दिवस पर व्यंग्य, नेताजी का हिंदी दिवस, नहीं रुकेगी हंसी
X

नेताजी बड़े भारी हिंदी भाषा प्रेमी हैं। यूं तो वे पांचवीं भी तीन बार फेल हैं। संज्ञा,सर्वनाम,क्रिया,विशेषण की परिभाषा से अंजान हैं। कल ही उन्होंने हिंदी भाषा के पक्ष में ट्वीट कर धमाल मचा दिया था। पौने गपतालीस लाख उनके फेसबुक फॉलोवर हैं और तो और वे तो बत्तीबाजी डॉट कॉम नामक ब्लॉग के लेखक भी हैं।

उनकी इतनी साहित्य साधना से प्रभावित होकर उन्हें ‘साहित्य पर एहसान अवार्ड’ से सम्मानित भी किया जा चुका है। वे पढ़े नहीं तो क्या हुआ गूगल से उन्होंने अपने आप को कनेक्ट कर अपने मस्तिष्क के सॉफ्टवेयर को अपग्रेड कर अपने में इंस्टाल कर लिया और ऐसे वे बन गए विद्वान नेता। वे चैनलों के पैनल में धोबी पछाड़ डिबेट में विशेष आमंत्रित सदस्य हैं। उनकी अद्भुत वाक् क्षमता ने उन्हें अपने दल का प्रवक्ता मनोनीत करवा दिया है।

सूत्र बताते हैं कि नेताजी हिंदी दिवस पर भव्य आयोजन करने वाले हैं। विदेशी मेहमान बुलाए जा रहे हैं, जिनका हिंदी से कोई वास्ता नहीं है। उनके लिए विशेष पकवानों का इंतजाम किया गया है, जिसका भी हिंदी से कोई वास्ता नहीं है। कार्यक्रम की सूत्रधार विदेश की पॉप गायिका है, जिसका भी हिंदी से कोई वास्ता नहीं है लेकिन हिंदी दिवस है इसलिए इन सबको हिंदी से जोड़कर देखा जाए, ऐसी अधिसूचना जारी कर दी गई है।

हिंदी दिवस के लिए एक समिति का गठन कर दिया गया है, जिसके सदस्य सर्व श्री अमेरिका रिटर्न मिस्टर हेल्लो कुमार, ग्रेट ब्रिटेन में पली-बढ़ी एनआरआई मिस एक्सक्यूज़ मी और युवा सदस्य के तौर पर जर्मनी से डिग्री लेकर आए मास्टर सॉरी को स्थान दिया गया है। देश में ये तीन ही हैं, जो धूम मचा रहे हैं बाकी हिंदी दिवस तो हम एक दिन मना ही रहे हैं।

ये तीनों सदस्य मिल कर माननीय नेताजी के संयोजन में हिंदी दिवस के भव्य ऐतिहासिक समारोह का ताना-बाना बुनेंगे। आयोजन समिति ने विदेशी मखमली कालीन प्रवेश द्वार से लेकर भीतर हॉल तक के लिए, समंदर पार का लट्टू-झूमर आकर्षण के लिए और इंपोर्ट किए हुए सोफे मंगवा लिए हैं। इनका भी हिंदी से वास्ता नहीं है इसीलिए इन सब का उपयोग करके यह साबित किया जाएगा कि हिंदी कितनी विराट हृदय वाली भाषा है,

सबको स्वीकार कर लेती है,अपना लेती है। कुछ एक विद्वान, जो जीवन भर हिंदी को पोथियों में सहेजते रहे उनका आरोप है कि समिति उनको नजरअंदाज कर रही है। इस पर नेताजी कहते हैं, ‘वे काहे के विद्वान जो जीवन खपा कर हिंदी को किताबों की बेड़ियों में कैद कर दिया, उन पर तो हिंदी के अपमान का मुकदमा होना चाहिए! हमें देखो हम हिंदी के मॉडर्नाइजेशन के लिए प्रतिबद्ध हैं।’

यह कहकर नेताजी अपने कंधों पर दी गई भव्य आयोजन की जिम्मेदारी के लिए कमर कस चिंतन के भंवर में डूब गए। उन्हें अचानक याद आया कि फलाने इंटरनेशनल स्कूल के बच्चों को प्रेयर के लिए तो बुलाना ही रह गया। कार्यक्रम की रूपरेखा में 5 मिनट की प्रार्थना अजी! क्षमा करें वे जिस स्कूल के है, वहां प्रेयर होती है, तो प्रेयर हिंदी दिवस आयोजन का हिस्सा है। हालांकि इसका भी हिंदी से लेना-देना नहीं है।

बड़े आर्टिस्ट स्टेज सज्जा के लिए बुलाए गए हैं। स्टेज के बीच में ‘हैप्पी हिंदी डे’ लिखा जाना तय हुआ है। देश भर के अखबारो में विज्ञापन के जरिए हिंदी जागरूकता फैलाने के लिए पैसे जारी कर दिए गए हैं। सोशल मीडिया पर हैश टैग हिंदी डे का ट्रेंड चला दिया है। आफ्टरऑल हिंदी के खोए मान को लौटाना है। नेताजी को यह जिम्मेदारी निभानी है। वो घड़ी आ ही गई जब नेताजी की इतने दिनों की मेहनत रंग लाई।

विदेशी मेहमान महफिल में हाथो में जाम लिए बैठे हैं। विदेशी मेहमान और देशी विद्वान हिंदी भाषा की उपयोगिता पर अंग्रेजी में भाषण दे रहे हैं। पोथी वाले हिंदी लेखक बाहर गेट पर प्रवेश के लिए संघर्ष कर रहे हैं। नेताजी के सात पीढ़ी के रिश्तेदार बुलाए गए हैं। पकवान चटकारे लेकर खाए जा रहे हैं और विदेश के सोफे और कालीन की जमकर तारीफें हो रही हैं। नेताजी प्रशंसा से गदगद होकर अपनी सफेद कॉलर पकड़ कर मुस्कुरा रहे हैं। कुछ ऐसे सब हिंदी दिवस मना रहे हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top