Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तिल को ताड़ बनाकर पेश करने की कोशिश

मामला सामने आने पर सुषमा स्वराज ने ब्रिटेन सरकार से सिर्फ इतना ही कहा था कि वो अपने कानून के हिसाब से फैसला ले।

तिल को ताड़ बनाकर पेश करने की कोशिश
X
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की ओर से मानवीयता के आधार पर की गई आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की कथित मदद को कांग्रेस जिस तरह से सनसनीखेज बनाने की कोशिश कर रही है, वह हैरान करने वाला है। उन्हें अपनी कैंसरग्रस्त पत्नी की इलाज के लिए ब्रिटेन से पुर्तगाल जाना था, ब्रिटेन भारत से संबंधों का हवाला दे उन्हें यात्रा की अनुमति नहीं दे रहा था। मामला सामने आने पर सुषमा स्वराज ने ब्रिटेन सरकार से सिर्फ इतना ही कहा था कि वो अपने कानून के हिसाब से फैसला ले, भारत से संबंध प्रभावित नहीं होंगे। ललित मोदी के पुर्तगाल जाने के अनुरोध पर फैसला ब्रिटिश सरकार को ही करना था। हालांकि ऐसा भी नहीं है कि ललित मोदी पुर्तगाल जाकर फरार हो गए हों। वह पुर्तगाल से फिर ब्रिटेन लौट आए थे। मानवीयता के आधार पर उठाए गए कदम को भी विपक्ष जानबूझकर गंभीर मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहा है। इसे तरह पेश कर रहा है जिससे लगता हैकि सुषमा स्वराज ने कोई बहुत बड़ा अपराध कर दिया है। यही नहीं वह जल्द से जल्द इस्तीफा भी चाहता है। दरअसल, आज कांग्रेस के पास मुद्दों की कमी है। यही वजह है कि वह मोदी सरकार के हर फैसलों पर हो-हल्ला मचाने लग रही है। वह अपनी खोई हुई राजनीतिक जमीन हासिल करने की कोशिश कर रही है। इन दिनों कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी जहां भी जा रहे हैं, वहीं से मोदी सरकार के खिलाफ बयान दे कर उन्हें कटघरे में खड़ा करने का प्रयास कर रहे हैं। यहां तक कि वे मुद्दों की गंभीरता को भी जांचने की कोशिश नहीं करे हैं। यही नहीं वे हर मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जोड़ने में लगे हैं। भले ही उसका उनसे कोईसंबंध हो या नहीं। इस मुद्दे से भी प्रधानमंत्री का कोई लेना देना नहीं है, लेकिन वह ललित मोदी से संबंध साबित करने का बेजा प्रयास कर रहे हैं। सोमवार को कांग्रेस ने एक फोटो जारी किया जिसमें नरेंद्र मोदी, अमित शाह और ललित मोदी मौजूद हैं। सच्चाईयह हैकि वह फोटो 2010 में अहमदाबाद में हुए एक क्रिकेट मैच का है। तब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और ललित मोदी आईपीएल के कमिश्नर। मुख्यमंत्री की हैसियत से आयोजकों ने नरेंद्र मोदी को मैच देखने के लिए आमंत्रित किया था। उस समय ललित मोदी पर किसी तरह का कोई मामला भी नहीं था। ऐसे में भाजपा के सवाल सही हैं कि कांग्रेस के भी ढेर सारे नेताओं के फोटो ललित मोदी के साथ हैं। यहां तक कि ऐतिहासिक 2जी, कोयला, कॉमनवेल्थ और आदर्श घोटाले के तमाम आरोपियों के साथ भी कांग्रेस हाईकमान से लेकर कईनेताओं के फोटो मौजूद हैं। स्पेक्ट्रम घोटाले के आरोपी ए राजा तो मनमोहन सिंह के कैबिनेट में थे और उन्होंने किस तरह इनका बचाव किया था यह सबने देखा है। ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस बिना सोचे समझे कुछ भी करती जा रही है। ललित मोदी ने यदि कोई वित्तीय गड़बड़ी की है तो वह कांग्रेस के कार्यकाल में ही हुआ है। यहां तक कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार के दौरान ही वह देश से बाहर गए। भाजपा ने तो नहीं भगाया है। ऐसे में मानवीय आधार पर किए गए कथित मदद को इस तरह मुद्दा नहीं बनाया जाना चाहिए। इसके बावजूद सुषमा स्वराज ने इस्तीफे की पेशकश कर, जैसा कि कहा जा रहा है, एक र्शेष्ठ उदाहरण प्रस्तुत किया है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top