Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

घाटी में विकास के कार्य नहीं रुकने चाहिए

विगत वर्षों में घाटी से दूसरे क्षेत्रों को जोड़ने के लिए सड़कों व रेलमार्गों की कई बड़ी परियोजनाएं शुरू की गई हैं।

घाटी में विकास के कार्य नहीं रुकने चाहिए
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कटरा तक ट्रेन सेवा का उद्घाटन कर घाटी में विकास का एक नया द्वार खोला है। जम्मू-उधमपुर के बीच रेललाइन का उद्घाटन गत वर्ष हुआ था और शुक्रवार को उधमपुर-कटरा लाइन शुरू हो जाने से वैष्णो देवी के दर्शन करने वाले र्शद्धालु जम्मू की बजाय सीधे कटरा तक जा सकते हैं। एक अनुमान के मुताबिक प्रतिवर्ष 10 लाख र्शद्धालु वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाते हैं। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलने के साथ ही घाटी का देश के दूसरे हिस्से से संपर्क बहाल होगा। इसके अलावा केंद्र सरकार बनिहाल तक रेलमार्ग का विस्तार करने की योजना बना रही है।
यह रेलमार्ग कश्मीर और जम्मू के दो अलग-अलग क्षेत्रों को भी करीब लाएगा। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों का दिल जीतना ही उनका मकसद है और ऐसा वे विकास के माध्यम से करेंगे। जम्मू-कश्मीर कई कठिनाइयों से गुजरा है। वहां की जनता अपने राज्य को भी सुखी, शांत और समृद्ध होते देखना चाहती है। युवाओं को रोजगार के अवसर देना एक बड़ी चुनौती है। अभी भी कई ऐसे इलाके हैं जिसका देश से सीधा संपर्क नहीं है। हालांकि प्रधानमंत्री की यात्रा से पहले सीमा पार से आतंकियों ने घुसपैठ की नाकाम कोशिश भी की।
प्राय: जम्मू-कश्मीर में हर वीवीआईपी दौरे के दौरान आतंकवादी अपनी उपस्थिति दर्शाने की कोशिश करते हैं। ऐसे हमलों से आतंकियों का मकसद अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान आकृष्ट करना होता है। वे दहशत पैदा कर दुनिया को दिखाना चाहते हैं कि कश्मीर विवादित है। दहशत से ही इन आतंकी संगठनों के आकाओं की राजनीति चलती है। भारत सरकार, चाहे वह वर्तमान में एनडीए की सरकार हो या पूर्व की यूपीए सरकार दोनों का हमेशा से जम्मू-कश्मीर को देश की विकास की मुख्यधारा में शामिल किए जाने का प्रयास रहा है। इसीलिए केंद्र सरकार द्वारा घाटी में तमाम चीजों जैसे-बिजली, सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यटन और दूरदराज के क्षेत्रों में संचार व्यवस्था बहाल करने के साथ-साथ रोजगार के साधनों के विकास पर सब्सिडी दी जाती है। सभी क्षेत्रों में लगातार सुधार के प्रयास होते रहे हैं।
विगत वर्षों में घाटी से दूसरे क्षेत्रों को जोड़ने के लिए सड़कों व रेलमार्गों की कई बड़ी परियोजनाएं शुरू की गई हैं। उरी का पावर प्रोजेक्ट भी एक महत्वपूर्ण परियोजना है, जिसका उद्घाटन शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने किया। यहां बिजली का उत्पादन होगा, जिससे राज्य में ऊर्जा की समस्या को दूर करने में मदद मिलेगी। तुलनात्मक आकलन करें तो पाते हैं कि घाटी पहले के मुकाबले आज शांत है। चरमपंथी संगठनों के आकाओं के इरादे बहुत हद तक पस्त हुए हैं। एक तथ्य यह भी है कि वहां के स्थानीय लोगों की सोच में भी फर्क आया है। कश्मीर के लोग अब अमन, विकास, तरक्की और खुशहाली चाहते हैं। इससे आतंकवादी जमातों को बड़ा झटका लगा है।
हालांकि अलगावादी संगठनों ने नरेंद्र मोदी की यात्रा के दौरान राज्य में बंद का ऐलान किया था। अब उन्हें भी संकीर्ण सोच को त्याग कर राज्य के विकास और लोगों की आजादी सुनिश्चित करने के लिए उचित माहौल बनाने में भागीदार बनना चाहिए। कश्मीर में विकास और अमन की प्रक्रिया में और तेजी लाए जाने की जरूरत है। ताकि उनकी बुनियादी समस्याओं का सामाधान हो सके। तभी जम्मू-कश्मीर के लोगों का भरोसा जीता जा सकेगा और वे स्वयं को राष्ट्र की मुख्यधारा में शामिल समझेंगे।
Next Story
Top