Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

डेविड हेडली की गवाही से भारतीय पक्ष मजबूत

पठानकोट हमले में किसका हाथ रहा है, इसके ठोस सबूत भारत पाकिस्तान को दे चुका है।

डेविड हेडली की गवाही से भारतीय पक्ष मजबूत
मुंबई पर 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकी हमले को लेकर विशेष अदालत में चल रही सुनवाई के दौरान शिकागो से वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए पेश हुए डेविड हेडली ने जो खुलासे किए हैं, उनसे यह बात साफ हो गई है कि जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर जैसे आतंकी संगठनों को पाकिस्तानी सेना पैसे और हथियारों से पूरी मदद मुहैया करवा रही है। पिछले दिनों एक साक्षात्कार में पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने स्वीकार किया है कि वहां आईएसआई और सेना आतंकी संगठनों के जरिए जो कुछ भी करवाती है, उसकी जानकारी सरकार को दी जाती है। यानी मुंबई अटैक की जानकारी भी पाकिस्तान सरकार को थी। डेविड हेडली ने विस्तार से उन सब हालातों का जिक्र किया है, जिसके चलते वह हाफिज सईद के भाषणों से प्रभावित होकर आतंकवादी बना। लश्कर ए तैयबा में शामिल हुआ और किस तरह उसकी मुलाकातें इस दौरान सेना, आईएसआई के अफसरों और लखवी से लेकर दूसरे आतंकी सरगनाओं से हुई। किस तरह उसने भारत में प्रवेश करने के लिए अपना नाम बदलकर डेविड हेडली रखा। कैसे पासपोर्ट हासिल किया। किस तरह मुंबई के दौरे किए। उसने ऐसे-ऐसे खुलासे किए हैं, जिनसे पाकिस्तान के बारे में भारत सहित पूरी दुनिया की यह धारणा और पुष्ट हुई है कि वह आतंकवादियों का गढ़ बन चुका है। पिछले दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने खुद यह कहा था कि पाकिस्तान आतंकवादियों के लिए स्वर्ग की तरह है। कौन नहीं जानता है कि 1993 के मुंबई सीरीयल धमाकों का गुनहगार दाऊद इब्राहिम कराची में आईएसआई की सुरक्षा और संरक्षण में रहता है। चाहे अजहर मसूद हो, हाफिज सईद या लखवी, ये सब भारत विरोधी मुहिम चलाते हुए पाक में मनमानी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। यह सब तब है, जब जनवरी 2004 में खुद परवेज मुशर्रफ ने साझा घोषणा-पत्र में ऐलान किया था कि पाकिस्तान अपनी धरती से भारत विरोधी मुहिम नहीं चलने देने के लिए वचनबद्ध है। हाल में इसी तरह की बातें नवाज शरीफ ने भी कही हैं लेकिन पाक की कथनी और करनी का फर्क पूरी दुनिया देख और जान चुकी है। हाल ही में पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले से एक बार फिर यह बात सिद्ध हो गई कि पाक भारत को जख्म देने का कोई भी मौका वह चूकना नहीं चाहता है। भारत जो कहता रहा है, डेविड हेडली ने अपनी गवाही में उसकी पुष्टि कर दी है। इस लिहाज से पूरी दुनिया के सामने भारत का पक्ष और भी सुदृढ़ हो गया है। पठानकोट हमले में किसका हाथ रहा है, इसके टोस सबूत भारत पाकिस्तान को दे चुका है। नवाज शरीफ ने ऐसी कड़ी कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया हुआ है, जिसे पूरी दुनिया देखेगी, लेकिन अब तक के उसके रुख से तो यही संकेत मिल रहे हैं कि हमेशा की तरह वह टालमटोल की ही मुद्रा में है। ऐसे में भारत के पास सीधी कार्रवाई करने का विकल्प शेष बचता है। और इस बार यदि भारत ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकवादियों का सफाया किया तो पाकिस्तान भले ही चिल्लाए, पूरी दुनिया भी भारत के साथ ही खड़ी दिखाई देगी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top