Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

फ्रांस, जर्मनी व कनाडा में मेक इन इंडिया का नारा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो यूरोपीय देशों फ्रांस और जर्मनी की यात्रा खत्म कर बुधवार को उत्तरी अमेरिकी देश कनाडा पहुंचे।

फ्रांस, जर्मनी व कनाडा में मेक इन इंडिया का नारा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीन देशों की यात्रा अपने अंतिम पड़ाव पर है। वे दो यूरोपीय देशों फ्रांस और जर्मनी की यात्रा खत्म कर बुधवार को उत्तरी अमेरिकी देश कनाडा पहुंचे। उनको फ्रांस और जर्मनी में जिस तरह की सफलता हासिल हुई है उसे देखते हुए इस बात की उम्मीद बढ़ गई है कि उनकी कनाडा यात्रा भी सफलता के नए मानदंड स्थापित करेगी। कनाडा की यात्रा का महत्व इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले 42 साल में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यह पहली यात्रा है। माना जा रहा है कि यह यात्रा दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में एक मील का पत्थर साबित होगी। दोनों देशों के बीच परमाणु मुद्दे सहित ऊर्जा सहयोग, भारत के विकास के लिए व्यापार और तकनीकी सहयोग पर बातचीत होने की संभावना है। प्रधानमंत्री मेक इन इंडिया कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए फ्रांस और जर्मनी की तरह कनाडा के निवेशकों को भी प्रेरित करेंगे। अभी भारत और कनाडा के बीच द्विपक्षीय व्यापार छह अरब डॉलर पर रुका हुआ है, जो कि कनाडा के चीन के साथ 60 अरब डॉलर के व्यापार से बहुत कम है। कनाडा के विदेशी व्यापार में भारत का हिस्सा सिर्फ एक फीसदी है। यात्रा के बाद उम्मीद है, इसमें बढ़ोतरी होगी।

यात्रा के अंतिम चरण में कनाडा पहुंचे पीएम, रक्षा संबंधी मुद्दों पर बातचीत संभव

जाहिर है, भारत और कनाडा का अपने रणनीतिक और आर्थिक रिश्तों को नए आयाम देने का यह बेहतर मौका है। उनकी फ्रांस यात्रा दोनों देशों के संबंधों को नया आयाम दे गया। दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में सत्रह समझौते हुए। जैतपुर में परमाणु रिएक्टर परियोजना, स्मार्ट सिटी व हाईस्पीड ट्रेनों को चलाने में सहयोग के करार के साथ फ्रांस सरकार से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने का सौदा हुआ। वहीं एयरबस सहित वहां की कई कंपनियों का मोदी सरकार के महत्वाकांक्षी मेक इन इंडिया अभियान में सहयोग देने के लिए हामी भरना काफी मायने रखता है। राफेल लड़ाकू विमान भारतीय वायुसेना को और मजबूती देगा। फ्रांस, जर्मनी और कनाडा को शक्तिशाली देशों में गिना जाता है। वहां की सरकारें व विभिन्न समुदायों द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिस तरह हाथों हाथ लिया गया और मीडिया ने उन्हें प्रमुखता प्रदान की उससे कहा जा सकता है कि दुनिया में उनके नेतृत्व में भारत का कद बढ़ रहा है। वहीं जर्मनी में नरेंद्र मोदी वहां के निवेशकों व उद्योगपतियों से मुखातिब हो कर साफ शब्दों में कहा कि भारत अब बदल गया हैऔर वे इसे ग्लोबल मैन्युफैैक्चरिंग हब बनाने के लिए कमियों को दूर करेंगे। मोदी जर्मनी के हैनोवर व्यापार मेले में भी शामिल हुए। जर्मनी भारत में निवेश करने वाला आठवां बड़ा निवेशक है। वहीं वैश्विक स्तर पर जर्मनी छठवां सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। जर्मनी यूरोपीय संघ में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार देश है।

जर्मनी में बोले पीएम मोदी, भूमि अधिग्रहण से किसानों को नहीं होगी परेशानी

भारत और जर्मनी के द्विपक्षीय रिश्तों को देखा जाए तो आने वाले दिनों में वह मेक इन इंडिया को सफल बनाने में महत्वपूर्णयोगदान कर सकता है। वहीं तकनीकी, रिन्यूबल ऊर्जा और कौशल विकास के क्षेत्र में भी जर्मनी भारत का सहयोग करेगा। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आतंकवाद के खिलाफ मुहिम छेड़ने और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थाई सीट पर इन देशों का समर्थन जुटाने में भी सफल रहे। उम्मीद है, आने वाले दिनों में तीनों देशों से हमारे रिश्ते और प्रगाढ़ होंगे।

भारत युवा शक्ति से संपन्न देश, जर्मनी भारत के साथ नजदीकी साझेदारी के पक्ष मेंः अंजेला मर्केल

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top