Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

युवाओं के संघर्ष को दर्शाती है ''डॉमनिक की वापसी''

उपन्यास का एक संदर्भ उत्तराखंड का आंदोलन है।

युवाओं के संघर्ष को दर्शाती है
पूंजी और कला
विवेक मिश्र का उपन्यास ‘डामनिक की वापसी’ में प्रेम कथा के माध्यम से युवा वर्ग के संघर्ष, प्रतिरोध और टूटन को सामने लाया गया है। उपन्यास का एक संदर्भ उत्तराखंड का आंदोलन है। इस संदर्भ से राजनीति के कुत्सित चेहरे को उजागर किया गया है, लेकिन यहां जो ज्यादा महत्व्पूर्ण है, वह है आज के पूंजीवाद का आक्रामक चरित्र और एक कलाकार का उसके साथ द्वंद्व। उपन्यास के नायक डॉमनिक को ऐसे ही संघर्ष से गुजरना पड़ता है। रंगमंच की पृष्ठभूमि मे रचे गए इस उपन्यास में मानवीय संबंध की जटिलता और जीवन में चयन के प्रश्न को बहुत सुंदर ढंग से उकेरा गया है। तमाम अनुकूलता और प्रतिकूलता के बीच नायक जिस तरह से अपने जीवन की शर्त खूद तय करता है, यह प्रकारांतर से वर्चस्वशाली शक्तिओ को तमाचा है। विवेक मिश्र की प्रवाहपूर्ण भाषा भी इस उपन्यास का सकारात्मक पक्ष है।
पुस्तक- डॉमनिक की वापसी
लेखक- विवेक मिश्र
मूल्य-
प्रकाशक- किताबघर प्रकाशन, नई दिल्ली
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top