Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आजम खान का माफीनामा

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि संसद में किसी भी प्रकार की अभद्र टिप्पणी या गतिविधि करने पर कार्रवाई के लिए एक कमेटी नियुक्त है। फिर भी हाल यह है कि जो भी कोई कुछ चाहता है वो कुछ भी बोल लेता है। इस पर हम यह भी कह सकते हैं कि आज इस तरह की बात आजम खान ने बोली कल को किसी अन्य बोल देगा तो कार्रवाई कौन करेगा।

Azam Khan Ka Mafinama आजम खान का माफीनामा
X
Azam Khan Ka Mafinama

समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान ने महिला सांसद पर आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर लोकसभा में मांफी मांग ली। आजम ने एक बार नहीं बल्कि दो बार माफी मांगी। कहा, 'अध्यक्षजी, जो बात आपके समक्ष मेरे संबंध में आई है, मेरी कोई ऐसी भावना चेयर के प्रति नहीं थी, न हो सकती है। मैं दो बार संसदीय कार्य मंत्री रहा हूं, चार बार मंत्री रहा हूं, नौ बार विधायक रहा हूं, राज्यसभा सदस्य रहा हूं। मेरे भाषण, मेरे आचरण को पूरा सदन जानता है। इसके बावजूद भी अगर चेयर को मेरे प्रति ऐसा लगता है कि मुझसे भावना में कोई गलती हुई है तो मैं क्षमा चाहता हूं।'

लेकिन क्या माफी मांगने से काम चल जाएगा। आखिर क्या कारण रहा कि बीजेपी की ओर से भी कोई ठोस कार्रवाई नही की गई। जहां संसद के सभी माननीय एक ओर महिला सश्क्तिकरण की बात करते हैं वहीं दूसरी ओर राजनीति के मंदिर संसद में इस तरह की घटना आश्चर्यचकित करने वाली लगती है। जैसा कि इस बार रिकार्ड तोड़ 78 महिला सांसद बनी है बावजूद इसके स्थिति ऐसी बन रही है। चाहे सत्ता हो या विपक्ष जब इतनी महिला सासंद हैं तो आखिरकार कैसे आजम खां को इतनी सरलता से छोड़ दिया गया। यह पहली बार नही था कि आजम ने महिला के लिए अभद्र टिप्पणी की है। वह पहले भी कई बार ऐसे ब्यान दे चुके हैं।

जिससे वो बर्खास्त किए जा सकते थे। इस बार स्पष्ट रुप से उनके खिलाफ माहौल बन चुका था व कई संसद में बैठने वाले नेताओं के सिवाय देश की जनता खासतौर पर महिलाओं को इंतजार था कि इस बार आजम का अंजाम अच्छा नहीं होने वाला, लेकिन निराशा हाथ लगी। सबने इसको दुर्भाग्यपूर्ण मानते हुए निंदा की। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि संसद में किसी भी प्रकार की अभद्र टिप्पणी या गतिविधि करने पर कार्रवाई के लिए एक कमेटी नियुक्त है। फिर भी हाल यह है कि जो भी कोई कुछ चाहता है वो कुछ भी बोल लेता है। इस पर हम यह भी कह सकते हैं कि आज इस तरह की बात आजम खान ने बोली कल को किसी अन्य बोल देगा तो कार्रवाई कौन करेगा।

तब विपक्ष या अन्य दल खुलकर खड़े हो जाएंगे और इस घटना का हवाला देंगे। यह स्थिति चोर-चोर मौसेरे भाई वाली होगी। जितनी घटनाओं को नियंत्रित करने की हुंकार किसी भी सरकार द्वारा भरी जाती है उतना ही उनका खुलकर विरोध होता आया है। यह घटना समझ से परे कि आखिर यह देश की कौन सी धुंधली तस्वीर है। इस घटना से हर कोई बड़ा ब्यानबाज भी बचता नजर आया। उमर अबदुल्ला जैसे लोग जो हर बात पर ट्वीट करने से नही चूकते वो चुप रहे व कांगेस की ओर से भी कोई प्रतिक्रिया नही आई। इसके अलावा भी कई नेताओं की लंबी फेहरिस्त है। माननीयों ने कई बार मर्यादा तोड़कर आम जनता का दिल तोड़ा है।

कभी भगवानों पर तो कभी महिलाओं अभ्रद टिप्पणी होती रहती है। क्या इन माननीयों पर मुद्दा खत्म हो चुका है या मीडिया में बने रहने के लिए यह हरकत की जा रही है। लगातार ऐसे ब्यानों से हर कोई हैरान व परेशान है। कुछ नेताओं ने चुनावी रैलियों में या सोशल मीडिया पोस्टों या मीडिया के सवालों के जवाब में विवादास्पद टिप्पणियां कीं थी। इनमें हर दल के नेता था। पूर्व से पश्चिम तक और उत्तर से दक्षिण तक कई उम्मीदवारों ने अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया। आजम खान और भाजपा के गिरिराज सिंह जैसे राजनेता अपने बड़ेबोलेपन और भाजपा की प्रज्ञा सिंह ठाकुर और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कन्हैया कुमार अपने बयानों से लोगों का ध्यान आकर्षित करते रहे।

प्रज्ञा ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताकर सात चरण के लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर में एक तीखी बहस छेड़ दी थी। आजम खान ने नाम लिए बगैर कहा था, रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिन्दुस्तान वालों, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए। मैं 17 दिनों में पहचान गया कि वह खाकी रंग का अंडरवियर पहनती है। इस बयान के लिए खान के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई।

बिहार में वैचारिक रूप से एक दूसरे के विरोधी माने जाने वाले दो उम्मीदवारों गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार के बीच बेगूसराय में तनातनी देखने को मिली। इसके अलावा भी तमाम ऐसे ब्यानों की सूची है लेकिन ऐसे लोगों पर कार्रवाई ही नही होती। इन लोगों को ख्याल रखना चाहिए की तमाम लोग उनको अपना आइडियल मानने लगते हैं। उनको ऐसे वचनों व हरकतों से बचना चाहिए जिससे हमारे संस्कृति, सम्मान व इज्जत तार-तार न हो। उन पर ठोस कार्यवाही हो जिससे जो नए लोग राजनीति में आ रहे हैं वो भी सचेत रहें।

योगेश सोनी

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top