Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

यंगस्टर्स ले रहे हैं प्रेमचंद की रचनाओं से जीवन मूल्यों की सीख

मोटिवेशनल बुक्स की रिडिंग हैबिट डाल रहे हैं।

यंगस्टर्स ले रहे हैं प्रेमचंद की रचनाओं से जीवन मूल्यों की सीख

यंगस्टर्स में पिछले कुछ समय से प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी से जुड़े स्टडी मटेरियल के साथ-साथ लाइब्रेरी में उपन्यास, काव्य रचनाएं और मोटिवेशनल बुक्स की रीडिंग हैबिट डाल रहे हैं।

इसमें महाकवि तुलसी दास और हिन्द साहित्य के रत्न प्रेमचंद की कालजयी और जीवन मूल्यों की सीख देने वाले दोहे, कविताएं और उपन्यास को यंगस्टर्स पढ़ना काफी पसंद कर रहे हैं।

सामाजिक मद्दों और जीवन की वास्तविकता से परिचय करती इन महाविभूति रचानाकारों की कृतियां जो कालजीय, समसामयिक व प्रासंगिक है उससे आज के युवा अपना मार्गप्रस्थ करने इन काव्यों का सहारा ले रहे हैं जो एक सकारात्मक सामाजिक परिवर्तन कहा जा सकता है।

शहर के सेंट्रल लाइब्रेरी, घासीदास ग्रंथालय और स्वामी विवेकानंद आश्रम की ग्रंथालय में युवा पाठकों की अच्छी खासी उपस्थिति देखी जा रही है।

एक समय शहर के इन लाइब्रेरियों में 100-200 से ज्यादा मेंबरशिप नहीं होते थे। पर आज 1 हजार से 15 सौ से अधिक रिडरशिप लाइब्रेरियों में जहां वे अपने स्टडी के अलावा माइंड रिफ्रेशमेंट और नैतिक शिक्षा का स्तर को उंचा उठा रहे हैं।

रचनाओं से ले रहे सकरात्मक विचार व नैतिक शिक्षा

तुलीस के दोहावली, कवितावली, सतसई और रामचरित्रमानस जहां अध्यात्म से जोड़ रहे हैं। वहीं प्रेमचंद के सेवासदन, वरदान, रंगभूमि, गोदान, गबन, इदगाह, कफन जैसे आंदोलित रचनाएं।

सामाजिक, राजनीतिक, व्यवस्था, रहन-सहन और नैतिकता व जीवन मूल्यों का संचर कर रही है। जो युवाओं में दूरदृष्टा, सकारात्मक विचार और नैतिका का विकास कर रहा है।

संवाद,लेखन और रचनात्मकता बढ़ाने पढ़ रहे उपन्यास

युवाओं का कहना है कि ये बुक्स उनके उच्चारण, रचनात्मक लेख, वर्तनी, व्याकरण, शैली और शब्दकोश आदि को इम्प्रूव करने में मदद मिलती रही है।

इसके अलावा समाजिक व राजनीतिक विषयों को बड़ी ही सरल और रोचकता के साथ समझने से एकाग्रता भी बढ़ती है।

घर से ज्याद लाइब्रेरी स्टडी के लिए निकाल रहे समय

युवा पाठकों का कहना है कि लाइब्रेरी में स्टडी स्प्रीट किसी घर या कॉलेज कैंपस से ज्यादा स्ट्रॉग रहता है।

सारी सुविधाओं के अलावा यहां का महौल रिडेबल के अनुकुल होता है। साथ ही अगर विषय संबंधित बुक्स पढ़ते पढ़ते बोरिंग हो जाये तो, काव्य व उपन्यास या दूसरे टेस्ट के बुक्स तुरंत उठाकर पढ़ सकते है।

जिससे माइंड रिफ्रेश हो जाता है।

Next Story
Share it
Top