Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

यूपी के मंत्री मोहसिन रजा के निकाहनामे का रजिस्ट्रेशन रद्द, अब देनी पड़ रही है सफाई

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मोहसिन रजा की अब खूब किरकिरी हो रही है।

यूपी के मंत्री मोहसिन रजा के निकाहनामे का रजिस्ट्रेशन रद्द, अब देनी पड़ रही है सफाई

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मोहसिन रजा के निकाहनामे का रजिस्ट्रेशन रद्द हो गया है। इसकी वजह से उनकी खूब किरकिरी भी हो रही है। यही वजह है कि उन्हें अपने बचाव में सफाई भी देनी पड़ रही है।

शादी के 17 वर्ष बाद कराया था रजिस्ट्रेशन

दरअसल, मोहसिन रजा के निकाहनामे का रजिस्ट्रेशन कुछ जरूरी कानूनी प्रक्रिया पूरी नहीं होने के कारण सस्पेंड हो गया है। हालांकि मंत्री को अब अपनी सफाई में कहना पड़ रहा है कि जल्द ही कानूनी प्रक्रिया को पूरा कर रजिस्ट्रेशन बहाल करा लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने सीएम योगी आदित्यनाथ को उनके बयान पर भेजा नोटिस

अपनी सफाई में रजा का कहना है कि वह अपनी व्यस्तता की वजह से ही निकाह पंजीकरण की प्रक्रिया को पूरा नहीं कर पाए थे, लेकिन अब जल्द ही इसे पूरा कर लेंगे। रजा ने अपनी शादी के 17 वर्ष बाद इसी साल 3 अगस्त को निकाहनामे के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन किया था।

रजिस्ट्रेशन करके खूब लूटी थी वाहवाही

गौर करने वाली बात है कि यूपी में सरकार बनते ही सीएम योगी ने प्रदेश में सभी शादियों के पंजीकरण को अनिवार्य कर दिया था। मुस्लिम संगठनों ने इस फैसले का खूब विरोध किया, लेकिन मोहसिन रजा ने अपनी शादी का रजिस्ट्रेशन करके वाहवाही लूटी।

यह भी पढ़ें: 'पद्मावती' पर पीएम मोदी, बिग बी की चुप्पी पर शत्रुघ्न सिन्हा ने साधा निशाना

लेकिन अब उनके निकाह का रजिस्ट्रेशन निरस्त हो गया है, तो उनके ऊपर ही उंगलियां उठनी शुरू हो गई हैं। विपक्षी दलों ने सवाल किया है कि जब मंत्री ही कानून का पालन नहीं कर पाया तो किसी ओर से क्या उम्मीद की जा सकती है।

अब नए सिरे से करना पड़ेगा आवेदन

बता दें कि निकाह रजिस्ट्रेशन निश्चित समय सीमा में पूरा हो जाना चाहिए, नहीं तो इसे रद्द माना जाएगा। इसके लिए 3 महीने का समय होता है। इसके बाद ही रजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र मिलता है। इस तरह रजा को अब नए सिरे से पंजीकरण के लिए आवेदन करना होगा।

यह भी पढ़ें: गुजरात चुनाव 2017: भाजपा-कांग्रेस के लिए इज्जत का सवाल बनी यह खास सीट

Next Story
Share it
Top