Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

संसद का शीतकालीन सत्र आज से, नोटबंदी पर होगा हंगामा

कई दलों ने संसद में नोटबंदी के मुद्दे पर फौरन चर्चा कराने की मांग की है।

संसद का शीतकालीन सत्र आज से, नोटबंदी पर होगा हंगामा
नई दिल्ली. आज से संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। नोटबंदी के फैसले के बाद से संसद के पहले दिन में ही हंगामे के आसार हैं नजर आ रहे हैं। इस मामले में सभी दलों से राष्ट्रहित के लिए साथ देने को कहा है। लेकिन नोटबंदी को लेकर विपक्षी दलों के तेवरों से साफ है कि नोटबंदी पर संसद पहले ही दिन से गरमाने वाली है। शीतसत्र से एक दिन पहले सर्वदलीय बैठक भी हुई है।
बुधवार से संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1000 के नॉट बंद करने के फैसले पर विपक्ष के रवैये में तल्खी देखी जा रही है। विरोधी पार्टियां इस मुद्दे पर सत्र के पहले दिन ही हंगामा कर सकती हैं। हालांकि इस मुद्दे पर पीएम मोदी सभी दलों से साथ देने की अपील कर चुके हैं। टीएमसी, कांग्रेस और बसपा सहित कई दलों ने संसद में नोटबंदी के मुद्दे पर फौरन चर्चा कराने की मांग की है। उम्मीद पूरी है कि पहले दिन से ही शीतसत्र हंगामेदार होगा। सिर्फ नोटबंदी ही नहीं विपक्ष सेना के सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर सरकार की पाकिस्तान नीति तक पर घेराबंदी कर सकता है।
केंद्र ने भ्रष्टाचार और काले धन पर विपक्ष से मांगा सहयोग-
इस बैठक में पीएम मोदी ने काला धन और भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों पर संसद के भीतर और बाहर विपक्षी दलों का सहयोग मांगा है। सरकार कह रही है कि वो हर चर्चा के लिए तैयार है लेकिन कांग्रेस के तेवर गर्म हैं। रात में मुंबई पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी पर फिर से पीएम मोदी के घेरा हैं।
राहुल गांधी ने कहा मोदी जनता की हालत पर हंस रहे है-
राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया कि जब देश भर में बैंकों और एटीएम के बाहर 18-20 लोगों की मौत हो गई तो उस वक्त वह ‘हंस रहे हैं।’ जापान और गोवा में मोदी के बयानों की ओर इशारा करते हुए राहुल ने कहा, ‘‘करीब 18-20 लोगों की कतारों में मौत हो गई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हंस रहे हैं। उनको स्पष्ट करना चाहिए कि वह हंस रहे हैं या रो रहे हैं?’’
ममता बनर्जी का राष्ट्रपति भवन मार्च-
वहीं, विपक्ष दो खेमों में बंटा दिख रहा है। एक खेमा कांग्रेस की अगुवाई वाला है तो दूसरा ममता बनर्जी की अगुवाई वाला। तृणमूल कांग्रेस की ममता बनर्जी आज एनडीए की सहयोगी पार्टी शिवसेना, दिल्ली के सीएम केजरीवाल और नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्दुल्ला के साथ राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेंगी।कांग्रेस समेत दूसरे बड़े दल इस मार्च में नहीं दिखेंगे। ममता बनर्जी ने तो रात दिल्ली में केजरीवाल के साथ काफी देर तक मुलाकात की और सभी दलों से राजनीति से ऊपर उठकर एक साथ आने की अपील की है।
तीन तलाक और जीएसटी पर होगी बहस-
इसके अलावा जीएसटी, तीन तलाक जैसे मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। सत्र के समयपूर्व आयोजन का उद्देश्य केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) और एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) को जल्द से जल्द पास करवाना है ताकि जीएसटी का रास्ता साफ हो सके।सरकार अगले साल से बजट सत्र के समयपूर्व आयोजन पर भी विचार कर रही है। इसे समय से एक महीने पहले या जनवरी से शुरू किया जा सकता है। जीएसटी से जुड़े कानूनों के अलावा 15 नए बिल भी पेश किए जा सकते हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top