Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

क्या कल वाराणसी को क्योटो बनाने आ रहे हैं जापानी पीएम शिंजो आबे?

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे कल यानी 13 सितंबर से भारत दौरे पर आ रहे हैं।

क्या कल वाराणसी को क्योटो बनाने आ रहे हैं जापानी पीएम शिंजो आबे?
जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे कल यानी 13 सितंबर से भारत दौरे पर आ रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के गांधीनगर में आबे की मेहमाननवाजी करेंगे। पीएम मोदी के लिए आबे का यह दौरा काफी मायने रखता है।
दरअसल, जापान के सहयोग से भाजपा सरकार को कई महत्वाकांक्षी योजनाओं को अमलीजामा पहनाना है। इसमें बुलैट ट्रेन से लेकर यूपी के मशहूर तीर्थ स्थल वाराणसी को जापान की धार्मिक नगरी क्योटो जैसा खूबसूरत बनाना शामिल है।

2014 में हुआ था काशी-क्योटो पैक्ट

फिलहाल सभी की निगाहें पीएम मोदी के उस वायदे पर है, जिसके तहत वाराणसी को क्योटो बनाने की बात कही गई थी। इसके लिए 30 अगस्त 2014 को मोदी और शिंजो आबे ने काशी-क्योटो पैक्ट पर करार किया था। हैरानी की बात यह है कि अभी तक इस पर कोई काम नहीं हो पाया है।
इसको लेकर बनारस की जनता ही नहीं, देश भी सवाल कर रहा है कि आखिर वाराणसी कैसे और कब तक क्योटो जैसा स्मार्ट टूरिस्ट प्लेस बन पाएगा। जापान को इसके लिए शहरी आधुनिकीकरण, संस्कृति और ऐतिहासिक विरासत का संरक्षण में सहयोग करना था।

अब कहां आ रही हैं दिक्कतें

पीएम मोदी ने अपने इस अहम वादे को पूरा करने के लिए स्टीयरिंग कमेटी बनाई थी, जिसमें पुरात्वविभाग समेत कई विभागों को शामिल किया गया था। इस कमेटी का काम वेस्ट, वॉटर, सीवर और ट्रांसपोर्ट प्रबंधन में जापानी तकनीक का सहयोग लेना था।
वाराणसी की बनावट और जनसंख्या इसके स्मार्ट बनने में बड़ी बाधा बनकर उभर रही है। प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाने के लिए अभी भी शोध और मसौदा तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा बड़े फंड को लेकर भी काम किया जा रहा है।

आबे के दौरे से फिर बंधी उम्मीदें

शिंजो आबे के इस दौरे से फिर से उम्मीदें बंधती नजर आ रही हैं। वाराणसी को क्योटो जैसा बनाने के लिए काफी हद तक कागजी काम हो चुका है। अब बस इसे अमलीजामा पहनाने के लिए काम होना बाकी है।
इसके लिए आबे से पीएम मोदी विस्तार से बात करेंगे और आने वाली दिक्कतों को दूर करने का प्रयास करेंगे। यही नहीं, भारत सरकार जापान से तकनीकी सहयोग लेने पर भी विचार कर रही है।

सपा राज में नहीं हुआ काम, योगी करेंगे

जिस समय पीएम मोदी ने वाराणसी को लेकर वायदा किया था, उस समय प्रदेश में सपा की सरकार थी। इस वजह से भी इस प्रोजक्ट पर कोई खास काम नहीं हो पाया।
लेकिन अब भाजपा की योगी सरकार आने से वाराणसी की कायापलट करने को लेकर काम तेज होने की उम्मीद लग रही है। खुद सीएम योगी आदित्यनाथ इस प्रोजेक्ट में आने वाली दिक्कतों को दूर कर रहे हैं।
Next Story
Share it
Top