Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जानें कौन हैं उपेंद्र कुशवाहा, जिन्होंने NDA से तोड़ दिया बरसों पुराना नाता

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।आइए जानते हैं कौन हैं उपेंद्र कुशवाहा और उनके राजनीतिक जीवन के कुछ अनसुने पहलू।

जानें कौन हैं उपेंद्र कुशवाहा, जिन्होंने NDA से तोड़ दिया बरसों पुराना नाता

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। संसद के शीतकालीन सत्र शुरू होने से एक दिन पहले ही कुशवाहा ने अपने पद को छोड़कर राजनीति में नई हलचल पैदा कर दी है। ऐसे में आइए जानते हैं कौन हैं उपेंद्र कुशवाहा और उनके राजनीतिक जीवन के कुछ अनसुने पहलू......

भाजपा के नेतृत्व में काम कर रहे कुशवाहा ने मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। 10 दिसंबर 2018 यानि सोमवार को करीब 12 बजे उन्होंने अपने इस्तीफे की घोषणा की। कुशवाहा के इस फैसले से बिहार में राजनीतिक समीकरण बदल सकते हैं।
  1. उपेंद्र कुशवाहा का जन्म 2 फरवरी 1960 को बिहार के वैशाली में एक मध्यम वर्गीय हिंदू क्षत्रीय परिवार में हुआ है। उनकी पत्नी का नाम श्रीमती स्नेहलता है।
  2. कुशवाहा ने पटना के साइंस कॉलेज से ग्रेजुएशन किया और फिर मुजफ्फरपुर के बीआर अंबेडकर बिहार यूनिवर्सिटी से राजनीति विज्ञान में एम.ए किया है
  3. कुशवाहा ने समता कॉलेज के राजनीति विभाग में लेक्चरर के तौर पर भी काम किया है।
  4. -उपेंद्र कुशवाहा ने 1985 में राजनीति की दुनिया में कदम रखा। 1985 से 1988 तक वे युवा लोकदल के राज्य महासचिव रहें और 1988 से 1993 तक राष्ट्रीय महासचिव बने रहें, 1994 में समता पार्टी का महासचिव बने।
  5. 2002 तक इस पद पर बने रहने के बाद उन्हें राजनीति में महत्व मिलने लगा।
  6. सन 2000 से 2005 तक कुशवाहा बिहार विधान सभा के सदस्य रहें और विधान सभा के उप नेता नियुक्त किए गए।
  7. उपेंद्र कुशवाहा राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के संस्थापक हैं, वह बिहार के काराकट से सांसद भी हैं।
  8. उपेंद्र कुशवाहा मोदी सरकार में मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री के तौर पर कार्य कर रहे थे।
  9. सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बने उपेंद्र कुशवाहा शिक्षक, शिक्षाविद् और किसान भी हैं।
  10. उपेंद्र कुशवाहा पूर्व राज्य सभा सदस्य और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष हैं।
  11. उपेंद्र कुशवाहा ने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी की स्थापना 3 मार्च 2013 में की थी।
  12. फरवरी 2014 को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी राजग (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) में शामिल हो गई।
  13. 2014 के आम चुनाव में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने बिहार से तीन सीटों सीतामढ़ी, काराकट और जहानाबाद पर चुनाव लड़ा था। पार्टी ने चुनाव में तीनों सीटों पर कब्जा जमाया था।
  14. उपेंद्र कुशवाहा को नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल के दौरान ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय से मानव संसाधन विकास मंत्रालय में स्थानांतरित कर दिया गया था।
  15. उपेंद्र कुशवाहा को बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल (यू) के वरिष्ठ नेता नीतीश कुमार के करीबी सहयोगियों में से एक कहा जाता था पर दोनों में मतभेद की खबरें भी बनी रहीं।
  16. कुशवाहा बिहार विधानसभा के लिए सन 2000 में निर्वाचित हुए। विधानसभा में समता पार्टी के उप नेता बन गए और 2004 तक इस पद पर बने रहें।
  17. मार्च 2004 को कुशवाहा बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता बने और फरवरी 2005 तक सफलतापूर्वक अपनी जिम्मेदारी निभाने में कामयाब रहे।
  18. इसके बाद उपेंद्र कुशवाहा को जद (यू) और नेता नीतीश कुमार से अनबन रहने लगी।
  19. इसके बाद कुशवाहा पार्टी से अलग हो कर नेशनल कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए।
  20. कुशावाहा का राकांपा के बिहार प्रमुख के तौर पर कार्यकाल सफल नहीं रहा था जिसके बाद कुशवाहा फिर से जद (यू) में शामिल हो गए थे।
  21. जद (यू) में शामिल होते ही कुशवाहा ने नीतीश कुमार के साथ अपने मतभेदों को भी खत्म कर लिया।
  22. फिर कुशवाहा के राजनीतिक करियर में जबरदस्त उछाल आया। जुलाई 2010 में वे राज्य सभा के सदस्य बनने के साथ ही अगस्त में कृषि समिति के सदस्य भी बनें।
  23. 12. मई 2014 में कुशवाहा को ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पेय जल और स्वच्छता मंत्रालय का राज्य मंत्री बनाया गया।
  24. नवम्बर 2014 को कैबिनेट के फेरबदल के दौरान उन्हें मानव संसाधन विकास मंत्रालय का राज्य मंत्री बना दिया गया था।
  25. अब साल 2018 10 दिसंबर को उन्होंने मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है।
Share it
Top