Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानें कौन थे शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती, हत्या का भी लगा आरोप

कांची मठ के 69वें प्रमुख शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती का 82 साल की उम्र में बीते बुधवार को तमिलनाडु के कांचीपुरम में निधन हो गया।

जानें कौन थे शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती, हत्या का भी लगा आरोप
X

कांची मठ के 69वें प्रमुख शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती का 82 साल की उम्र में बीते बुधवार को तमिलनाडु के कांचीपुरम में निधन हो गया। आज पूरे रीति रिवाज के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर सभी नेताओं और मंत्रियों ने कांची कामकोटि पीठ के 69वें शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती के निधन पर शोक जताया।

ये भी पढ़ेः मठ में शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती को दी जाएगी समाधि, लाखों लोगों ने किए अंतिम दर्शन

जानें कौन थे जयेंद्र सरस्वती

जयेंद्र सरस्वती (सुब्रहमण्यम महादेव अय्यर) का जन्म 18 जुलाई 1935 दक्षिण भारत के तमिलनाडु में हुआ।

तमिलनाडु के काँचीपुरम नगर में स्थित कांची कामकोटि पीठ के 69वें शंकराचार्य थे। उन्हें वेदों के ज्ञाता माना जाता है।

जयेंद्र सरस्वती सिर्फ 19 साल की उम्र में ही उत्तराधिकारी घोषित हो गए। वे 1954 में शंकराचार्य बने थे।

शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती का इस पद पर आसीन होने से पहले का नाम सुब्रमण्यम था। जिससे बाद में बदल दिया गया था।

जयेंद्र सरस्वती ने अयोध्या मसले के समाधान के लिए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी सरकार की सराहना की थी।

जयेंद्र सरस्वती ने विभिन्न पक्षों के साथ बातचीत के जरिए राम मंदिर निर्माण के रास्ते निकालने की कोशिश की थी।

ये भी पढ़ेः आदिशंकराचार्य ने स्थापित किए थे ये 4 मठ, जानिए इन चार मठों के बारे में सबकुछ

कांची मठ कांचीपुरम में स्थापित एक हिन्दू मठ है। यह पांच पंचभूतस्थलों में से एक है। जो तमिलनाडु में स्थित है।

कांचीपुरम शंकररमन हत्‍याकांड मामले में भी उन्हें गिरफ्तार किया था।

9 साल तक चले केस में कोर्ट ने उन्हें 2013 में सभी आरोपों से बरी कर दिया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story