Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

RTI में पूछा सवालः वह ईश्वर कौन है, जिसकी लेते हैं शपथ

RTI में पूछा गया कि संवैधानिक पदों पर नियुक्त किए जाने वाले लोग और सांसद-विधायक जिस ''ईश्वर'' के नाम पर पद की शपथ लेते हैं वह कौन है?

RTI में पूछा सवालः वह ईश्वर कौन है, जिसकी लेते हैं शपथ

नई दिल्ली. आरटीआई के तहत दायर अर्जी को देखकर केंद्रीय कानून मंत्रालय भौंचक्का रह गया। दरअसल, अर्जी में पूछा गया था कि संवैधानिक पदों पर नियुक्त किए जाने वाले लोग और सांसद-विधायक जिस 'ईश्वर' के नाम पर पद की शपथ लेते हैं वह कौन है? आरटीआई आवेदक श्रद्धानंद योगाचार्य ने यह सवाल भी किया कि राष्ट्रीय प्रतीक के आधार पर लिखे हुए उद्देश्य 'सत्यमेव जयते' का अर्थ क्या है।

महिला आयोग में पेश नहीं होंगे विश्वास, बोले -नहीं मिला कोई नोटिस

यह अर्जी राष्ट्रपति सचिवालय को संबोधित की गई थी जिसे वहां से गृह मंत्रालय भेजा गया और बाद में कानून मंत्रालय को सौंप दिया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सुनवाई कोई संतोषजनक जवाब न मिलने पर श्रद्धानंद ने केंद्रीय सूचना आयोग का रुख किया, जहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई सुनवाई के दौरान कानून मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि वे सिर्फ वही सूचनाएं मुहैया करा सकते हैं जो रिकॉर्ड का हिस्सा हों।

ओबामा की भारत यात्रा का खर्च बताने से विदेश मंत्रालय का इंकार, RTI खारिज

सूचना देने से इनकारः केंद्रीय जनसूचना अधिकारी एसके चित्कारा ने भी आवेदक को समझाने की कोशिश की कि सत्यमेव जयते संवैधानिक प्रावधान का हिस्सा नहीं है। सत्य धर्म जाति जैसे शब्दों को संविधान के किसी भी भाग में परिभाषित नहीं किया गया है। इसलिए सूचना मुहैया नहीं कराई जा सकती है।

वैवाहिक दुष्कर्म कानून से शोषण में आएगी कमी! पर क्‍या महिलाओं की इस बि‍खरी राय के साथ?

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, सवाल नहीं पूछ सकते: -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top