Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

व्हाइट हाउस ने रूस के साथ संबंधों के लेकर दिया बड़ा संकेत

60 राजनयिकों को निष्कासित करने और सेंट पीटर्सबर्ग में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास को बंद करने का आदेश देने का रूस का फैसला इस बात का संकेत है कि द्विपक्षीय संबंध और बिगड़ रहे हैं।

व्हाइट हाउस ने रूस के साथ संबंधों के लेकर दिया बड़ा संकेत

अमेरिका में व्हाइट हाउस ने आज कहा कि उसके 60 राजनयिकों को निष्कासित करने और सेंट पीटर्सबर्ग में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास को बंद करने का आदेश देने का रूस का फैसला इस बात का संकेत है कि द्विपक्षीय संबंध और बिगड़ रहे हैं।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा, ‘‘अमेरिकी राजनयिकों को निष्कासित करने की रूस की आज की कार्रवाईइस बात का संकेत देती है कि अमेरिका- रूस संबंध और बदतरहो रहे हैं।'

ये भी पढ़ें- गाजियाबाद: देश के सबसे लंबे एलिवेटेड रोड का सीएम योगी करेंगे उद्घाटन, जानें इसकी खुबियां

गौरतलब है कि रूस ने बदले की कार्रवाई करते हुए अमेरिका के 60 राजनयिकों को सात दिन के भीतर देश छोड़ने और48 घंटों के भीतर सेंट पीटर्सबर्ग वाणिज्य दूतावास को बंद करने के लिए कहा है।

सैंडर्स ने कहा, ‘‘अमेरिका और24 से अधिक देशों तथा नाटो सहयोगियों द्वारा इस सप्ताह रूस के अघोषित खुफिया अधिकारियों को निष्कासित करना ब्रिटेन की सरजमीं पर रूस के हमला का उचित जवाब था।' इससे पहले ट्रंप प्रशासन ने रूस के60 राजनयिकों को निष्कासित करने और सीएटल में देश का महावाणिज्य दूतावास बंद करने का आदेश दिया था। सैंडर्स ने कहा कि रूस की प्रतिक्रिया‘‘ अप्रत्याशित नहीं' है और अमेरिका इससे‘‘ निपट' लेगा।

अमेरिका के विदेश विभाग की प्रवक्ता हीथर नोर्ट ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘रूस की प्रतिक्रिया को तर्कसंगत नहीं ठहराया जा सकता। हमारी कार्रवाई ब्रिटेन, ब्रिटिश नागरिक (पूर्व जासूस) और उनकी बेटी पर हमले की प्रतिक्रिया थी। याद रखे कि यह पहली बार है जब नर्व एजेंट नोविचोक का युद्ध से इतर मित्र देशों की सरजमीं पर इस्तेमाल किया गया।'

ये भी पढ़ें- सुषमा की जापान के विदेशी मंत्री के साथ ‘सार्थक' मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई बातचीत

उन्होंने कहा कि अमेरिकी राजनयिकों को निष्काासित करने का रूस का फैसला यह दिखाता है कि वह महत्वपूर्ण विषयों पर बातचीत करने का इच्छुक नहीं है। उन्होंने कहा कि रूसी जासूसों को निष्कासित करने के अमेरिका के फैसले में कई देश शामिल हैं।

नोर्ट ने कहा, ‘‘हमने ये कदम अकारण हीं नहीं उठाए। हमने दुनियाभर में हमारे सहयोगियों के साथ मिलकर ये कदम उठाए। अमेरिका के साथ 28 देशों ने 153 रूसी जासूसों को बाहर का रास्ता दिखा दिया।' (भाषा)

Next Story
Top