Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बजट से पहले क्यों किया जाता है आर्थिक सर्वेक्षण? जानें

आर्थिक सर्वेक्षण वित्त मंत्रालय की ओर से पेश की जाने वाली आधिकारिक रिपोर्ट होती है। इसे सालाना आर्थिक सर्वेक्षण भी कहा जाता है।

बजट से पहले क्यों किया जाता है आर्थिक सर्वेक्षण? जानें

संसद में बजट सत्र का आगाज हो गया है। इसके साथ ही वित्त मंत्री अरूण जेटली ने लोकसभा में आर्थिक सर्वेक्षण को पेश किया है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस साल वित्त वर्ष में विकास दर 7 से 7.5 फीसदी तक पहुंच सकती है। बजट सत्र का पहला भाग 29 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा।

आखिर आर्थिक सर्वेक्षण होता क्या है?

आर्थिक सर्वेक्षण वित्त मंत्रालय की ओर से पेश की जाने वाली आधिकारिक रिपोर्ट होती है। इसे सालाना आर्थिक सर्वेक्षण भी कहा जाता है। इस रिपोर्ट में यह बताया जाता है कि साल भर देश में विकास का रूझान कैसा रहा, किस क्षेत्र में कितना निवेश हुआ, कितना विकास हुआ।
साथ ही इसमें बताया जाता है कि योजनाओं को किस तरह अमल में लाया गया और जो योजनायें लागू की गई थीं उनके क्या परिणाम रहे इन तमाम पहलुओं पर सर्वे के द्वारा सूचना दी जाती है।
इस सर्वे को तैयार करने के लिये एक विशेष टीम होती है। इसे मुख्य आर्थिक सलाहकार के साथ वित्त और आर्थिक मामलों के जानकारों की टीम तैयार करती है। इसके साथ-साथ सरकार की ओर से उठाये गये कदमों और उनके परिणामों का ब्यौरा भी इस रिपोर्ट में किया जाता है।
आर्थिक सर्वेक्षण भविष्य में बनायी जाने वाली नीतियों के लिये एक दृष्टिकोण को काम करता है। इसे हर साल आम बजट से पहले संसद में पेश किया जाता है। बता दें कि इस साल के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रहमण्यम हैं।
Next Story
Share it
Top