logo
Breaking

यमुना एक्सप्रेसवे के हादसे के वायरल वीडियो का असली सच, सोशल मीडिया दे रहा धोखा

दिल्ली में धुंध में हादसे का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

यमुना एक्सप्रेसवे के हादसे के वायरल वीडियो का असली सच, सोशल मीडिया दे रहा धोखा

दिल्ली में फैले प्रदूषण की चारों तरफ चर्चा हो रही है। इस समय दिल्ली की सड़के धुंध से ढकी हुई हैं। तमाम जानकार प्रदूषण और इसके कारण छाए स्मॉग की चर्चा करते हुए इसे सेहत के लिए खतरनाक बता रहे हैं।

यमुना एक्सप्रेस वे पर एक हादसे का एक वीडियो वायरल हो रहा है। फिलहाल व्हाट्सएप पर तेजी से वायरल हो रहे इस वीडियो को देखकर आपको लगेगा कि कैसे दिल्ली में सड़के खूनी हो चली हैं।

यह वीडियो बताता है कि कोहरे के दौरान दिल्ली-एनसीआर के हाइवेज पर तेज रफ्तार भागती गाड़ियां कभी भी सैकड़ों जानों के लिए खतरा बन सकती हैं। यहां पर यह बात सही मानी जा सकती है कि लोग इस वीडियो को देखकर थोड़े सचेत हो जाएंगे या सरकार-पुलिस को सुरक्षा इंतजाम करने की याद आ जाएगी लेकिन सही सूचना देने वाले इस वीडियों के बारे में भी आपको मिली जानकारी गलत है।

तमाम समाचार वेबसाइटें इस वीडियो को आठ नवंबर 2017 की सुबह का बताकर रिपोर्ट कर रही हैं। बताया जा रहा है कि यह यमुना एक्सप्रेसवे पर आज सुबह हुई 18 गाड़ियों की टक्कर का वीडियो है. वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि कैसे तेज रफ्तार गाड़ियां आकर एक के बाद एक टकराती जा रहीं हैं। जब एक गाड़ी के टकराने के बाद उसमें सवार लोगों को उतरने का वक्त भी नहीं मिल पाता और दूसरा वाहन उससे आकर भिड़ जाता है।

ये वीडियो तेजी ले वायरल हो रहा है। ऐसी दुर्घटना यमुना एक्सप्रेसवे पर धनकौर इलाके के आस-पास हुई है, लेकिन इस दुर्घटना का बताकर प्रचारित किए जा रहे इस वीडियो का संबंध इससे जुड़ता नहीं दिखता है।

देखा जाए तो यह वीडियो 24 दिसंबर 2016 को बिजनेस स्टैंडर्ड में प्रकाशित एक रिपोर्ट का लग रहा है। जिसमें कोहरे के कारण कई गाड़ियां टकरा गई थीं जिसमें एक व्यक्ति की मौत होने के साथ-साथ करीब 10 लोग घायल भी हुए थे। बहुत संभावना है कि इस वीडियो का संबंध उसी दुर्घटना से हो।

Loading...
Share it
Top