Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गांव के मुकाबले शहरों में ज्यादा है बेरोजगारी, लोकसभा में सरकार ने जारी किये आंकड़े

शहरों में महिलाओं की बेरोजगारी दर सर्वाधिक 5 फीसदी है।

गांव के मुकाबले शहरों में ज्यादा है बेरोजगारी, लोकसभा में सरकार ने जारी किये आंकड़े
नई दिल्ली. रोजगार की चाह में शहरों की तरफ रुख करने वाले ग्रामीण बेरोजगारों को यह जानकर आश्चर्य होगा कि शहरों में गांव के मुकाबले ज्यादा बेरोजगारी है। यानि कि गांव में रोजगार के ज्यादा अवसर हैं। लोकसभा में सरकार की ओर से जारी किए गए राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण के आंकड़ों के मुताबिक, 2011-12 में सभी आयु वर्ग में ग्रामीण क्षेत्र में बेरोजगारी दर पुरुषों एवं महिलाओं में क्रमश: 1.7 और 1.7 प्रतिशत दर्ज की गई जबकि शहरी क्षेत्र में बेरोजगारी दर पुरुषों में 3 प्रतिशत और महिलाओं में 5.2 प्रतिशत रही।
आंकड़ों के अनुसार, 15 से 29 आयु वर्ग में ग्रामीण क्षेत्र में बेरोजगारी दर पुरुषों एवं महिलाओं में क्रमश: 5 प्रतिशत और 4.8 प्रतिशत रही जबकि इस आयु वर्ग में शहरी क्षेत्र में बेरोजगारी दर पुरुषों एवं महिलाओं में क्रमश: 8.1 प्रतिशत और 13.1 प्रतिशत दर्ज की गई। लोकसभा में सुप्रिया सुले के प्रश्न के उत्तर में श्रम एवं रोजगार मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रोजगार के अवसर बढ़ाने की प्रतिबद्धता व्यक्त की है।
इस मौके पर श्रम एवं रोजगार मंत्री ने कहा, ‘12वीं पंचवर्षीय योजना में गैर कृषि क्षेत्र में 5 करोड़ रोजगार के नये अवसर सृजित करने का लक्ष्य रखा गया है। विशेष केंद्रीय सहायता की कम से कम 10 प्रतिशत राशि आदिवासी उप योजना, अनुसूचित जाति उप योजना और विविध क्षेत्र विकास कार्यक्रम कोष में उपयोग करने का निर्णय किया गया है।देश के शहरों में गांव की तुलना में अधिक बेरोजगारी है और कृषि एवं उसकी सहयोगी सेवाएं अभी भी सर्वाधिक रोजगार मुहैया कराने वाला क्षेत्र बनी हुई हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, क्या कहते हैं रोजगार के पिछली सालों के आंकड़े-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top