Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सर्जिकल स्ट्राइक: हमने घर छोड़े, आप छक्के छुड़ा दो

सीमा पार से होने वाली गोलाबारी से बचने के लिए ग्रामीण अपने घरों को छोड़कर जा रहे हैं।

सर्जिकल स्ट्राइक: हमने घर छोड़े, आप छक्के छुड़ा दो
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा से सटे गांव वीरान पड़े हैं, क्योंकि ग्रामीण सीमा पार से होने वाली गोलाबारी और गोलीबारी से बचने के लिए अपने घरों को छोड़कर जा रहे हैं। इलाके में स्थित घरों की दीवारों और दुकानों के शटर पर मोर्टार के निशान सीमा पार से होने वाली गोलीबारी की गवाही दे रहे हैं। पल्लनवाला पट्टी में नियंत्रण रेखा के पास के गांवों--पंजटूट, चन्नी देवानो, मोगयाल लालो, सोमवा, चापरियाल, गिगरियाल, पल्टन, मिली दी खाए और जोडियन के लोग अपने घरों को छोड़कर जा चुके हैं।
गांववासियों का कहना है कि हमने घर छोड़ दिए आप (सरकार) पाकिस्तान के छक्के छुड़ा दो। सेना और सरकार से मांग की कि रोज-रोज की किचकिच से बेहतर आर-पार ही हो जाए। भारी गोलबारी होने के बाद पल्लनवाला का बाजार भी पिछले तीन दिन से बंद है। एक निवासी सुरेश कुमार ने बताया कि गोलीबारी और गोलाबारी होने के बाद से बीते तीन दिनों से बाजार बंद है। अपने गांवों और मवेशियों को छोड़ने को मजबूर हुए सीमावर्ती इलाको में रहने वाले लोग नरेंद्र मोदी सरकार से चाहते हैं कि वह पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें ताकि नियंत्रण रेखा पर फिर से आतंकी हमले और संघर्ष विराम का उल्लंघन नहीं हो।
खौर में राधा स्वामी आर्शम में बनाए गए एक शिविर में अपने परिवार के साथ शरण लेने वाली सीता देवी ने कहा कि कोई जंग नहीं चाहता है लेकिन हम सीमावर्ती इलाके में रहने वाले लोग हैं जिन्हें लगभग वार्षिक तौर पर संघर्ष विराम उल्लंघन के दौरान हर समय अपने घर और गांव को छोड़ने पर मजबूर होना पड़ता है। हम चाहते हैं कि पाकिस्तान को एक सबक सिखाया जाए ताकि वह फिर से संघर्ष विराम उल्लंघन करने की हिम्मत नहीं कर सके।
सीता और अन्य राजकुमार ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर उनके गांव वीरान पड़े हैं। बहरहाल, कुछ निवासी अपने मवेशियों की देखभाल करने के लिए दिन के वक्त में वहां चक्कर लगाकर आते हैं। गिगरियाल निवासी अशोक कुमार ने कहा कि हममें से कुछ बुधवार दोपहर के वक्त अपने मवेशियों को चारा देने के लिए गए थे तभी पाक सैनिकों ने मोर्टार दागने और भारी गोलीबारी शुरू कर दी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top