Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''मी टू'' का बड़ा असर दिखेगा ''वैलेंटाइन्स डे'' पर, ऑफिस अफेयर्स में कमी

रिपोर्ट के मुताबिक मी टू आंदोलन के बाद ऑफिस रोमांस का बात कुबूलने वाले लोगों की संख्या कम हुई है।

इस साल वैलेंटाइन्स डे पर मी टू का अच्छा खासा असर दिखेगा। लंबे समय से लोगों के बीच आम हो चुके ऑफिस अफेयर्स में कमी आ गई है। ऑफिस अफेयर्स अक्सर शादी के मुहाने तक पहुंचते हैं, लेकिन अब हालात कुछ बदले-बदले से हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरीका में ऑफिस रोमांस का बात कुबूलने वाले लोगों की संख्या कम हुई है। वहीं कुछ महिला एक्टिविस्ट्स का कहना है कि बदलाव और ऑफिस में अनचाहे बर्ताव को लेकर जीरो टॉलरेंस तक पहुंचने में अभी और समय लगेगा। उनका मानना है कि इस आंदोलन से लोगों में प्यार के लिए जरूरी, सीधे संवाद को बढ़ावा मिला है।

अभियान में महिलाओं ने लिखी दास्तान

अपनी किताब में 'यस मीन्स यस' (हां मतलब हां) लिखने वाली लेखक फ्रीडमन का कहना है कि जब हम अपने पार्टनर के साथ जो बर्ताव करते हैं, उसके बारे में सोचना शुरू कर देंगे तो यह आपसी प्यार और विश्वास को बढ़ावा ही देगा।

इसे भी पढ़ें- रिलेशनशिप में हैं तो आज ही छोड़ दें ये आदतें, नहीं तो ब्रेकअप होते देर नहीं लगेगी

बता दें हैश मी टू आंदोलन के जरिए दुनिया भर की महिलाओं ने सोशल मीडिया के जरिए अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न के अनुभव को दुनिया के सामने रखा था। इस आंदोलन में मनोरंजन, राजनीति, बिजनस और अन्य क्षेत्र के कई बड़े लोग एक्सपोज हुए हैं और उन्हें अपने उच्च पदों से हाथ धोना पड़ा है।

अब आसान नहीं फ्लर्ट करना

रिलेशनशिप एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस आंदोलन के बाद ऑफिस रोमांस में अच्छी-खासी कमी आई है। नामी लोगों पर लगे उत्पीड़न के आरोपों के कारण ऑफिस में अब कोई इतनी आसानी से फ्लर्ट नहीं करता है।

लोग अब ध्यान में रखते हैं कि उनके ऐसे बर्ताव में सामने वाले की सहमति हो। उन्हें अपनी फीलिंग्स के बारे में अब खुलकर बोलना होता है। फूल या कार्ड्स जैसी रोमांटिक चीजें देना भी अब उत्पीड़न की तरह ही लिया जा सकता है।

Next Story
Top