Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

H1-B वीजा मामला: अमेरिकी सांसदों ने किया ट्रंप के फैसले का विरोध

भारतीय अमेरिकी कांग्रेसमैन राजा कृष्णमूर्ति ने कहा, एच1बी वीजा एक्स्टेंशन को खत्म करने से अमेरिकी अर्थव्यवस्था घुटनों पर आ जाएगी।

H1-B वीजा मामला: अमेरिकी सांसदों ने किया ट्रंप के फैसले का विरोध

अमेरिकी संसद के कुछ सदस्यों ने ट्रंप प्रशासन के एच1बी वीजा नियम में बदलाव किए जाने का विरोध किया है। उनका कहना है कि इससे 5 से 7.5 लाख भारतीय अमेरिकी को अमेरिका से बाहर जाना पड़ेगा और नतीजतन देश से प्रतिभा भी चली जाएगी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह प्रस्ताव डोनाल्ड ट्रंप की बाई अमेरिकन और हायर अमेरिकन नीति का हिस्सा है।

एच1बी नियम में बदलाव का असर

हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन (एचएएफ) ने ट्रंप प्रशासन के इस प्रस्ताव पर चिंता जताई है। फाउंडेशन का कहना है, ट्रंप प्रशासन का प्रस्ताव है कि एच1बी वीजा से ग्रीन कार्ड के लिए अप्लाई करने वालों को एक्सटेंशन ना दिया जाए।

अगर ऐसा होता है तो उनके पास देश वापस लौटने या निष्कासित किए जाने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचेगा। उद्योग की रीढ़ बन चुके हजारों कार्यकुशल कामगारों को स्वदेश कैसे भेजा जाएगा और इससे किस तरह अमेरिका फर्स्ट का एजेंडा हल होगा।

बदलाव के विरोध में सांसदों ने कहा

डेमोक्रेटिक सांसद तुलसी गैबार्ड ने कहा, इतने सख्त पाबदी को लागू करने से परिवार टूट जाएंगे। हमारे समाज में से प्रतिभा और विशेषज्ञ गायब हो जाएंगे। इससे हमारे अहम साथी भारत के साथ रिश्तों में भी खराबी आएगी।

इस प्रस्ताव के चलते करीब 5 से 7.5 लाख एच1बी वीजाधारक भारतीयों को निष्कासन झेलना पड़ेगा। ये लोग छोटे धंधों के मालिक हैं, रोजगार पैदा करने वाले हैं और हमारी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में हिस्सेदार हैं। प्रतिभा के बाहर चले जाने से हम 21वीं सदी की अर्थव्यवस्था में लड़ने की अपनी क्षमता को खो देंगे।

अमेरिकी अर्थव्यवस्था घुटनों पर आ जाएगी

भारतीय अमेरिकी कांग्रेसमैन राजा कृष्णमूर्ति ने कहा, एच1बी वीजा एक्स्टेंशन को खत्म करने से अमेरिकी अर्थव्यवस्था घुटनों पर आ जाएगी। इससे कंपनियां विदेशों में जॉब देंगी और यहां निवेश करने की बजाय बाहर करेंगी। मुझे उम्मीद है कि प्रशासन इस प्रस्ताव को तुरंत खारिज कर देगा।

प्रस्ताव अप्रवासियों के खिलाफा

सांसद रो खन्ना ने कहा, प्रस्ताव अप्रवासियों के खिलाफ है। मेरे माता-पिता ग्रीन कार्ड पर यहां आए थे। इसी तरह सुंदर पिचाई, एलन मस्क, सत्य नाडेला भी आए। ट्रंप कह रहे हैं कि अप्रवासियों और उनके बच्चों के लिए यहां जगह नहीं है। ये ना केवल गलत है, बल्कि मूर्खता है।

15लाख भारतीयों पर पड़ेगा असर

इमीग्रेंट्स वॉइस के अमन कपूर का कहना है एच1बी एक्सटेंशन में बदलाव हर स्तर पर गलत हैं। उन्होंने कहा, ऐतिहासिक इंडियन-अमेरिकन कम्युनिटी के लिए तबाही जैसा होगा। ये 15 लाख लोगों को निष्कासन के लिए मजबूर कर देगा।

Next Story
Top