Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारत पर प्रतिबंध को लेकर सस्पेंस बरकरार, ट्रंप ने नहीं खोले अपने पत्ते

भारत और रूस के बीच हुए करीब 37 हजार करोड़ रुपए के एंटी मिसाइल सिस्टम सौदे के बाद अमेरिका नाराज बताया जा रहा हैं, लेकिन इस मामले में फिलहाल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

भारत पर प्रतिबंध को लेकर सस्पेंस बरकरार, ट्रंप ने नहीं खोले अपने पत्ते

भारत और रूस के बीच हुए करीब 37 हजार करोड़ रुपए के एंटी मिसाइल सिस्टम सौदे के बाद अमेरिका नाराज बताया जा रहा हैं, लेकिन इस मामले में फिलहाल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

इससे पहले कुछ कुटनीतिक विशेषज्ञ मान रहे थे, कि ट्रंप भारत-रूस के बीच हुए इस रक्षा समझौते से नाराज होकर भारत पर कोई प्रतिबंध लगा सकता हैं।

डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि रूस के साथ भारत द्वारा किए गए एस-400 ट्रायम्फ एयर डिफेंस सिस्टम रक्षा सौदे के बाद सीएएटीएसए (CAATSA) प्रतिबंध लागू हो सकता हैं।

क्या हैं सीएएटीएसए (CAATSA)

आपको बता दें कि काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शंस ऐक्ट (CAATSA) अमेरिका के विरोधियों के लिए प्रतिबंध अधिनियम एक अमेरिकी संघीय कानून है, जिसके द्वारा अमेरिका ने ईरान, उत्तरी कोरिया और रूस पर प्रतिबंध लगाए हैं।

इसे भी पढ़ें- पाकिस्तान को डराने भारत आ रहा है S-400, जानिए इसके बारे में खास बातें

S-400 डील क्या हैं?

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा के दौरान भारत और रुस के बीच करीब 37 हजार करोड़ की S-400 डील हुई थी।

एस-400 ट्रिम्फ रूस द्वारा बनाया गया एयर डिफेंस सिस्टम या एंटी बैलिस्टिक मिसाइल सिस्टम है। जो 1990 में बनाए गए विमान भेदी सिस्टम एस-300 का आधुनिक रूप है।

इस सिस्टम को रूस के अल्माज़ केंद्रीय डिजाइन ब्यूरो द्वारा बनाया गया है। एस-400 ट्रिम्फ सिस्टम की विशेषता इसकी चार अलग-अलग रेंज की मिसाइल्स हैं, जो इसे दुनिया का सर्वश्रेष्ठ एयर डिफेंस सिस्टम बनाती हैं।

Next Story
Top