Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

US ने बेचे सबसे ज्‍यादा हथियार, पढ़िए- किसने खरीदे ज्यादा

भारत ने दुनिया में सबसे ज्यादा 14 फीसदी हथियार खरीदे हैं।

US ने बेचे सबसे ज्‍यादा हथियार, पढ़िए- किसने खरीदे ज्यादा
X
वाशिंगटन. स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिप्री) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक भारत ने दुनिया में सबसे ज्यादा 14 फीसदी हथियार खरीदे हैं, जो कि चीन और पाकिस्तान की तुलना में तीन गुना ज्यादा हैं। वहीं अमेरिका ने साल 2015 में पूरे विश्व में सबसे ज्यादा हथियार बेचे हैं। हथियारों की बिक्री में अमेरिका का विश्व स्तर पर पहला स्थान रहा है। अमेरिका से करीब 40 अरब डॉलर के हथियार बेचे गए हैं। भारत लगातार तीसरे साल दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाला देश बना गया।
निर्यात में अमेरिका नंबर वन-
साल 2015 में हथियार बेचने में अमेरिका ने पहला स्थान प्राप्त किया है। हथियार बेचने के मामले में अमेरिका नंबर वन पर है। जो 33 % हथियार दूसरे देशों को निर्यात करता है। वहीं चीन की रणनीति हथियार आयातक के बजाय हथियार निर्यातक बनने की है। वर्ष 2006-10 के दौरान कुल हथियार निर्यात में उसकी हिस्सेदारी 3.6 फीसदी थी, जो 2011-15 में बढ़कर 5.9 फीसदी हो गई। वहीं यह संख्या अमेरिका के सबसे बड़े प्रतिद्वंदी फ्रांस देश से दोगुनी है।
स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट ने जारी किए आकड़े-
स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) दुनिया में हथियारों के व्यापार पर नजर रखती है और हर पांच साल में ये आंकड़े जारी करती है। पाकिस्तान सहित कुछ विकासशील देश 2015 में हथियारों के सबसे बड़े क्रेता बने रहे थे। कतर ने पिछले साल हथियारों के लिए 17 अरब डॉलर से अधिक के सौदे पर हस्ताक्षर किए थे। इसके बाद मिस्र, सऊदी अरब का स्थान रहा।
भारत ने खरीदे सबसे ज्यादा हथियार-
भारत लगातार तीसरे साल दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाला देश बन गया है। भारत ने विदेशों से सबसे ज्यादा 14 % हथियार खरीदा है। सबसे ज्यादा हथियार खरीदने के मामले में सऊदी अरब दूसरे नंबर पर है, जिसने 7.1 % हथियारों का आयात किया। वहीं हथियार खरीदने के मामले में पाकिस्तान सातवे नंबर पर है। यह जानकारी स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट ने दिया है। बता दें कि स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) दुनिया में हथियारों के व्यापार पर नजर रखती है और हर पांच साल में ये आंकड़े जारी करती है।
सबसे ज्यादा हथियार मंगाए (2011-15)
भारत – 14%
सऊदीअरब – 7.1%
चीन – 4.7%
यूएई – 4.6%
ऑस्ट्रेलिया – 3.6%
तुर्की – 3.4%
पाकिस्तान – 3.3%
वियतनाम – 2.9%

सबसे ज्यादा हथियार निर्यातक देश (2011-15)
अमेरिका – 33%
रूस – 28%
चीन – 5.9%
फांस – 5.6%
जर्मनी – 4.7%
ब्रिटेन – 4.5%
स्पेन – 3.5%
इटली – 2.7%
न्यूयॉर्क टाइम्स ने हथियारों की खरीद-फरोख्त के अध्ययन का जिक्र करते हुए कहा कि, वैश्विक तनाव और जोखिम से हथियारों की बिक्री में कुछ कमी आई है। 2015 में हथियारों का कुल वैश्विक कारोबार 2014 के 89 अरब डॉलर से घटकर 80 अरब डॉलर के करीब हो गया था। वैश्विक हथियार बाजार रूस के हथियारों के आर्डर में मामूली कमी दर्ज की गई है। लातिन अमेरिकी देश खासकर वेनेजुएअला रूसी हथियारों का बाजार बन कर उभरा है। चीन हथियारों की बिक्री के मामले में साल 2014 के तीन अरब डॉलर से बढ़ कर छह अरब डॉलर पर पहुंच गया है। बता दें कि दुनिया में 58 देश हथियारों का निर्यात करते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि इनमें से 74 फीसदी हथियार अकेले पांच देश अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस और जर्मनी मिलकर करते हैं और यह लगातार बढ़ रहा है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story