Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अमेरिका ने रूसी सैन्य सामान निर्यात पर लगाया प्रतिबंध, भारत के रक्षा सौदों पर पड़ेगा बड़ा असर

डोनाल्ड ट्रंप द्वारा साइन किए गए एक कानून के मुताबिक, रूस के डिफेंस सेक्टर में व्यापार करने वाले किसी भी देश को इस प्रतिबंध का सामना करना पड़ेगा।

अमेरिका ने रूसी सैन्य सामान निर्यात पर लगाया प्रतिबंध, भारत के रक्षा सौदों पर पड़ेगा बड़ा असर

रूसी सैन्य निर्यात पर अमेरिकी प्रतिबंध से भारत के साथ होने वाली करीब 39,822 करोड़ रुपये की डील को झटका लग सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस फैसले से एशिया के आसपास के अन्य अमेरिकी सहयोगियों की हथियारों की खरीद पर ब्रेक लग सकता है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा साइन किए गए एक कानून के मुताबिक, रूस के डिफेंस और इंटेलिजेंस सेक्टर में व्यापार करने वाले किसी भी देश को इस प्रतिबंध का सामना करना पड़ेगा।

यह कानून रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को सजा देने के लिए लाया गया है। रूस पर 2014 में क्रिमिया पर कब्जा करने, सीरिया के गृहयुद्ध में शामिल होने और अमेरिका के 2016 के चुनाव में दखल देने का आरोप है।

इसे भी पढ़ें- पाकिस्तान: बलूचिस्तान में सुरक्षाबलों पर 3 आत्मघाती हमले, 8 पुलिसकर्मियों की मौत

अमेरिका के सहयोगी देश भारत को होगी परेशानी

अब इस फैसले के बाद रूस से हथियार खरीदने वाले अमेरिका के सहयोगी देशों को परेशानी हो सकती है। बता दें कि रूस दुनिया दूसरा सबसे बड़ा हथियार निर्यातक है। इस झटके का सबसे ताजा उदाहरण भारत है।

भारत रूस से 5 लंबी रेंज के सर्फेस टु एयर मिसाइल सिस्टम एस-400 खरीदना चाहता है। भारतीय सेना के मुताबिक, यह सिस्टम सेना के लिए गेम चेंजर हो सकता है।

इस खरीद से जुड़े दो अधिकारियों ने दिल्ली में बताया कि 2016 में इंटर-गवर्नमेंट समझौते के रूप में राष्ट्रपति पुतिन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो सौदा किया था, वह सौदा अमेरिकी प्रतिबंध कानून की वजह से टल सकता है।

इसे भी पढ़ें- पीएम की यात्रा से पहले चीन को झटका, BRI पर भारत ने नहीं दिया समर्थन

अमेरिका के क्षेत्रीय सहयोगी होने के बावजूद इंडोनेशिया और वियतनाम भी रूस से हथियार खरीदते हैं। हाल ही में जकार्ता ने रूस से सुखोई फाइटर्स की बड़ी डील की है। वहीं वियतनाम रूस से जेट फाइटर्स बॉम्बर्स खरीदने की तैयारी कर रहा है।

सीरिया पर हमले के बाद दोनों देशों में तनाव बढ़ा

हाल ही में रूस के सहयोगी देश सीरिया में अमेरिका की एयरस्ट्राइक के बाद दोनों सुपर पावर के बीच टेंशन और बढ़ गई है। भारत के साथ होने वाली एस-400 डील से जुड़े रूसी सूत्र ने बताया,बहुत कुछ हमारे भारतीय भागीदारों के आत्मविश्वास और स्वच्छता पर निर्भर करेगा।

इनपुट- भाषा

Next Story
Top