Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उरी अटैक: हाईलेवल मीटिंग में बोले पीएम, पाक को अलग-थलग करने के हो प्रयास

पीएम मोदी ने पाकिस्तान को हर मंच पर अलग-थलग करने का निर्देश दिया है।

उरी अटैक: हाईलेवल मीटिंग में बोले पीएम, पाक को अलग-थलग करने के हो प्रयास
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के उरी में सेना के मुख्यालय पर रविवार की सुबह हुए आतंकी हमले के बाद जवाब में भारत ने पाकिस्तान को अलग-थलग करने और उसे आतंकी देश घोषित करने की रणनीति बनाई है। इस हमले से कैसे निपटा जाए और इसका जवाब कैसे दिए जाए इसे लेकर प्रधानमंत्री ने अपने घर पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली और रक्षा मंक्षी मनोहर पर्रिकर और दूसरे बड़े आला अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की।
रणनीति पर चर्चा
इस बैठक में सभी रणनीति पर चर्चा हुई। सेना प्रमुख ने पीएम को बताया कि सेना किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार है। बैठक में एनएसए, आइबी चीफ, डीजीएमओ, गृह सचिव और रक्षा सचिव मौदूद थे। बड़ी बैठक के बाद पीएम मोदी ने पाकिस्तान को हर मंच पर अलग-थलग करने का निर्देश दिया है और पाकिस्तान के खिलाफ भी सबूत देने को तैयार है भारत।
पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की मांग
सूत्रों के मुताबिक भारत की ओर से संयुक्त राष्ट्र संघ में इस मुद्दे को उठाते हुए पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की मांग की जा सकती है। 26 सितंबर को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन को संबोधित करेंगी। शुरुआती जांच में इस हमले में पाकिस्तानी ऐंगल के पुख्ता सबूत मिले हैं।
उरी अटैक में पाकिस्तान का हाथ होने के पक्के सबूत
इस बीच गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि उरी अटैक में पाकिस्तान का हाथ होने के पक्के सबूत हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान क्या कहता है, उसे बहुत अधिक तवज्जो देने की जरूरत नहीं है। हम सोच-समझकर कदम उठाएंगे। इसके बारे में अभी कुछ कहना सही नहीं होगा।
राजनाथ सिंह के आवास पर एक हाई लेवल मीटिंग
इससे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर एक हाई लेवल मीटिंग हुई। इसमें हमले की समीक्षा व आगे की रणनीति बनाई गई और फिर इसे पीएम मोदी के साथ साझा किया गया। इस बैठक में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, गृह सचिव राजीव महर्षि, रक्षा सचिव, खुफिया एजेंसियों के प्रमुख तथा रक्षा और गृह मंत्रालय के कई वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।
बता दें कि उरी में रविवार तड़के पांच बजे हुए हमले में करीब पांच घंटे तक चली मुठभेड़ के बाद जैश-ए-मोहम्मद के चारों आतंकवादी भी मारे गए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आतंकवादियों के हमले में 17 जवान शहीद हो गए थे और 25 से ज्यादा घायल हो गए थे। हमले में घायलों को बदामी बाग छावनी इलाके में स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां तीन और जवान शहीद हो गए जबकि कुछ अन्य जवानों की हालत गंभीर बनी हुई है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top