Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जानें आखिर मसूद अजहर को बचाने के लिए क्यों खड़ा है चीन, ये हैं 10 वजह

यूएन (UN) में चीन (China) ने एक बार फिर पुलवामा आतंकी हमले के मुखिया और जैश संगठन के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को ग्लोबल आतंकी (Global Terrorist) घोषित होने वाले प्रस्साव पर वीटो लगा दिया है।

जानें आखिर मसूद अजहर को बचाने के लिए क्यों खड़ा है चीन, ये हैं 10 वजह
यूएन (UN) में चीन (China) ने एक बार फिर पुलवामा आतंकी हमले के मुखिया और जैश संगठन के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को ग्लोबल आतंकी (Global Terrorist) घोषित होने वाले प्रस्साव पर वीटो लगा दिया है। ये एक बार नहीं 10 साल में चौथी बार मसूद को चीन ने आतंकी घोषित होने से बचाया है। सुरक्षा परिषद में चौथी बार चीन ने वीटो का इस्तेमाल किया है। ये हैं 10 बड़ी वजह...

ये हैं 10 वजह

1. चीन ने यूएन में इस प्रस्ताव के विरोध में चौथी बार वीटो वोट का इस्तेमाल किया।
2. मसूद को आतंकी घोषित करने के लिए यूके, यूएस, फ्रांस और जर्मनी पक्ष में है।
3. भारत ने विश्व समुदाय से उसे ग्लोबल आतंकी घोषित करने की मांग की थी। भारत के अनुरोध के बाद ही यूएन में इस प्रस्ताव को लाया गया था।
4. फ्रांस, अमेरिका और ब्रिटेन द्वारा मसूद के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में लाए गए।
5. यूएन में चीन ने प्रस्ताव की समीक्षा के लिए और वक्त की मांग की है। जिसकी वजह से उसने वीटा लगाया है।
6. चीन ने सुरक्षा परिषद की बैठक से पहले भारत से मसूद के खिलाफ सबूत मांगे थे।
7. यूएनएससी में अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन और रूस के साथ चीन को वीटो का अधिकार है। ऐसे में अगर इन देशों में से कोई वीटो लाता है तो वो प्रस्ताव खारिज कर दिया जाता है।
8. भारत ने अमेरिका और फ्रांस के साथ पुलवामा आतंकी हमले के बाद कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज शेयर किए थे ताकि मसूद के खिलाफ पुख्ता सबूत पेश किया जा सके।
9. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अल कायदा सैंक्शन्स कमेटी के तहत अजहर को आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने लाया था।
10. पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के पीछे पाकिस्तान के साथ कई अहम प्रोजेक्ट और उसकी मदद है। जो वो वीटो का इस्तेमाल करता है।
Loading...
Share it
Top