Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अमेरिका की नॉर्थ कोरिया को धमकी, ''सबको देख लेंगे''

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा कि हमारी क्षमताओं में से एक क्षमता हमारे बलवान सैन्य बलों में निहित है।

अमेरिका की नॉर्थ कोरिया को धमकी, सबको देख लेंगे
X

उत्तर कोरिया की ओर से हाल ही में किए गए बैलिस्टिक मिसाइल के प्रक्षेपण के जवाब में गुरूवार अमेरिका ने सैन्य बल के इस्तेमाल की चेतावनी दी है। इसके साथ ही अमेरिका ने ‘क्रूर तानाशाह' किम जोंग उन के ‘हाथ थामने वाले' चीन और रूस पर अपना तीव्र रोष जाहिर किया।

इसे भी पढ़ें:हाइफा पहुंचे पीएम मोदी, प्रथम विश्व युद्ध के भारतीय शहीदों को दी श्रद्धांजलि

सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निकी हेली ने कहा कि यह एक काला दिन है क्योंकि उत्तर कोरिया के कल के कदमों ने दुनिया को पहले से अधिक खतरनाक स्थान बना दिया है। उनका अवैध प्रक्षेपण न सिर्फ खतरनाक है, बल्कि लापरवाह और नीचतापूर्ण भी है।

अमेरिका के साथ तनाव अंतिम चरण में

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने नेता किम जोंग-उन के हवाले से कहा कि अमेरिका के साथ तनाव अंतिम चरण में पहुंच गया है। भारतीय-अमेरिकी हेली ने चेतावनी दी कि अमेरिका अपनी और अपने सहयोगियों की रक्षा के लिए अपनी क्षमताओं के पूर्ण इस्तेमाल के लिए तैयार है।

धमकाने वालों के लिए अन्य तरीके भी हैं

हेली ने कहा कि हमारी क्षमताओं में से एक क्षमता हमारे बलवान सैन्य बलों में निहित है। जरूरत पड़ने पर हम उनका इस्तेमाल करेंगे लेकिन हम चाहेंगे कि इस दिशा में जाने की जरूरत ही न पड़े।

हमें धमकाने वाले लोगों से निपटने के लिए हमारे पास अन्य तरीके भी हैं। व्यापार के क्षेत्र में हमारे पास अपार क्षमताएं हैं। हेली ने कहा कि उन्होंने इस बारे में राष्ट्रपति ट्रंप से बात की है।

प्रतिबंध की बड़ी जिम्मेदारी बीजिंग पर

चीन का जिक्र करते हुए हेली ने कहा कि उत्तर कोरिया के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंध लागू करने की बड़ी जिम्मेदारी बीजिंग पर है क्योंकि उत्तर कोरिया का 90 प्रतिशत व्यापार चीन के साथ होता है।

एक ओर जहां उन्होंने कहा कि अमेरिका चीन के साथ काम करेगा, वहीं उन्होंने यह चेतावनी भी दी कि कुछ देश सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन करते हुए उत्तर कोरिया के साथ व्यापार के लिए अनुमति दे रहे हैं।

कुछ देश तो इसके लिए बढ़ावा भी दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे देश अमेरिका के साथ भी अपने व्यापारिक प्रबंध जारी रखना चाहते होंगे तो ऐसा नहीं होने वाला। जब देश अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी खतरों को गंभीरता से नहीं लेते हैं, तो व्यापार के प्रति हमारा रवैया बदल जाता है।

रूस और चीन पर साधा निशाना

उत्तर कोरिया के खतरे से निपटने के प्रयासों में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ हाथ न मिलाने के मुद्दे पर हेली ने चीन और रूस पर भी निशाना साधा और कहा कि किम जोंग उन के शासन ने बीजिंग और मास्को की किसी बात को न तो सुना है और न ही वह सुनेगा।

इसे भी पढ़ें: इज़राइल दौराः PM मोदी ने भारतीयों को दिए ये अनोखे तोहफे

उन्होंने कहा कि इसलिए अब समय आ गया है कि हम एक साथ खड़े हों और कहें कि हम इस कदम को बर्दाश्त नहीं करेंगे। वहां बैठकर प्रतिबंधों का विरोध करना या वहां बैठकर नए प्रस्ताव को नकारने का अर्थ है कि आप किम जोंग उन के हाथ थामे हुए हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story