Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हजारों रोहिंग्या शरणार्थियों पर मंडराया मानसून-चक्रवात का खतरा: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि मानसून और चक्रवात के मौसम में बांग्लादेश के अस्थायी शरणार्थी शिविरों में रह रहे हजारों रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए खतरा पैदा हो गया है।

हजारों रोहिंग्या शरणार्थियों पर मंडराया मानसून-चक्रवात का खतरा: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि मानसून और चक्रवात के मौसम में बांग्लादेश के अस्थायी शरणार्थी शिविरों में रह रहे हजारों रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए खतरा पैदा हो गया है।

संयुक्तराष्ट्र के एक अनुमान के अनुसार लगभग सात लाख अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार के रखाइन प्रांत में पिछले साल 25 अगस्त को सेना के दमनकारी अभियान के बाद हिंसा से बचने के लिए भाग कर बांग्लादेश चले गए थे।

यह भी पढ़ें- गाजीपुर नाबालिग रेप केस: दिल्ली कोर्ट ने मदरसे के मौलवी को एक दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा

म्यांमार रोहिंग्या को एक जातीय समूह के रूप में मान्यता नहीं देता है और इस बात पर जोर देता है कि वे देश में अवैध रूप से रहने वाले बांग्लादेशी प्रवासी हैं। संयुक्तराष्ट्र आव्रजन एजेंसी ने दक्षिणी बांग्लादेश में बाढ़ और भूस्खलन से निपटने की तैयारियों के लिए तत्काल आर्थिक सहायता की अपील की है।

अंतरराष्ट्रीय आव्रजन संगठन (आईओएम) ने कहा है कि म्यामां में हिंसा के डर से भाग कर बांग्लादेश के शिविरों में रहने वाले हजारों लोगों के जीवन बिना फंड के खतरे में पड़ जाएगा।

यह भी पढ़ें- यूपी कैबिनेट मंत्री बोले- सबसे ज्यादा दारू राजपूत और यादव पीते हैं, जवाब में मिले टमाटर

लगभग दस लाख रोहिंग्या शरणार्थी कोक्स बाजार इलाके में रहते हैं और उनमें से 25 हजार के बारे में कहा जाता है कि उन्हें भूस्खलन से सबसे अधिक खतरा है।

इनपुट भाषा

Next Story
Top