logo
Breaking

अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी गिरफ्तार, चाय की दुकान से बना गैंगस्टर- जानें पूरा प्रोफाइल

अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को सेनेगल की राजधानी डकार में एक नाई की दुकान से दबोचा गया। 90 के दशक में रवि पुजारी मुंबई में सक्रिय अपराथी था। उस पर हत्या और फिरौती मांगने जैसे लगभग 200 संगीन अपराध दर्ज हैं।

अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी गिरफ्तार, चाय की दुकान से बना गैंगस्टर- जानें पूरा प्रोफाइल

अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को सेनेगल की राजधानी डकार में एक नाई की दुकान से दबोचा गया। 90 के दशक में रवि पुजारी मुंबई में सक्रिय अपराथी था। उस पर हत्या और फिरौती मांगने जैसे लगभग 200 संगीन अपराध दर्ज हैं। अफ्रीकी देश सेनेगल में गैंगस्टर रवि पुजारी को नाटकीय अंदाज में गिरफ्तार किया गया था।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री ऑफिस से दी गई जानकारी के अनुसार इस गैंगस्टर को पकड़ने के लिए काफी सतर्कता बरती गई। सेनेगल से तीन बसों में पुलिस टीम पहुंची और चारों तरफ से घेरकर उसे पकड़ा। पुजारी के लिए इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया जा चुका था, लेकिन वह लंबे समय से फरार चल रहा था।

नामचीन हस्तियों को धमकाया, हमला किया

पुजारी की गिरफ्तारी मुंबई में फिल्म इंडस्ट्री के लिए भी राहत की खबर है। लंबे समय से उसने इंडस्ट्री के कई लोगों को धमकियां दी थीं। उसने कइयों पर हमला भी किया था। मुंबई के जेसीपी आशुतोष दुम्बारे ने कहा कि हमारे पास उसकी गिरफ्तारी की पक्की खबर है और उसके खिलाफ हमारे पास काफी सबूत हैं और हम मजबूत केस तैयार कर रहे हैं।

अफ्रीका में चला रहा था रेस्तरां की चेन

पुजारी ने साउथ अफ्रीका में अपना अच्छा कारोबार फैला लिया था और कई अफ्रीकी देशों में उसके रेस्ट्रॉन्ट की चेन चल रही है। इनमें गुएना, बुर्किना, फासो और आइवरी कोस्ट जैसे देश शामिल हैं।

अचानक हो गया था गायब

कर्नाटक पुलिस ने बताया कि आइवरी कोस्ट में उसके रहने के दौरान हमारे पास उसके बारे में कुछ सूचनाएं थीं, लेकिन फिर वह अचानक गायब हो गया। हालांकि, इंटेलिजेंस एजेंसी, कर्नाटक पुलिस और गुजरात एटीएस लगातार अफ्रीकी प्रशासन से संपर्क में थी और पुजारी पर नजर रखी जा रही थी।

एंटनी फर्नांडिस रख लिया था नाम

कर्नाटक और गुजरात के अधिकारियों का कहना है कि पुजारी ने सेनेगल में अपना नाम एंटनी फर्नांडिस रख लिया था और उसके पास बुर्किनी का पासपोर्ट भी था। पुजारी की गिरफ्तारी को लेकर भी अलग-अलग जांच एजेंसी अपने दावे कर रही हैं। इस कुख्यात डॉन की गिरफ्तारी का क्रेडिट लेने की इच्छा सबकी है।

विदेश से भी धमकाता था लोगों को

गुजरात एटीएस के आधिकारियों का कहना है कि पुजारी ने पिछले कई साल में बिजनसमैन, राजनेता और अन्य कई लोगों को 75 से ज्यादा एक्सटॉर्शन कॉल की हैं। उसने हाल ही में गुजरात के सीमेंट कारोबारी को धमकी दी थी। एक अधिकारी ने बताया, 'पुजारी ने गुजरात में अपने टारगेट से 50 करोड़ रुपये से ज्यादा वसूले हैं। वहीं कुछ कारोबारियों से प्रॉटेक्शन मनी के तौर पर करोड़ों की मांग की थी।

ऐसे पकड़ाया पुजारी

एटीएस के सीनियर अधिकारी ने बताया कि पहला कदम यूके में रह रहे पुजारी के बच्चों को पहचानना था। अधिकारी ने बताया, 'इसके बाद हमले डकार में बसे गुजरातियों की मदद से पुजारी के बारे में पता लगाया। इसके बाद मुंबई के हमारे सूत्रों ने बताया कि पुजारी के बच्चे यूके में कई साल पहले रहा करते थे।

पूरी सुरक्षा के बीच रहता था डॉन

गुजरात एटीएस के अधिकारी ने बताया कि पुजारी आमतौर पर चार हथियारबंद बॉडीगार्ड के साथ रहता है। अधिकारी ने बताया, 'हमने सेनेगल पुलिस से मदद ली और उन्हें उसकी पहचान के लिए कुछ डॉक्युमेंट उपलब्ध कराए। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पुजारी ने प्रवासियों की मदद से 2016 में टिंटिलौ, बुर्कीनो फासो में शरण ली थी।

सूत्रों का कहना- पुजारी ने नहीं की हत्या

अंडरवर्ल्ड से जुड़े एक सूत्र का कहना है कि पुजारी ने वास्तव में आज तक किसी को नहीं मारा है, लेकिन दूसरों के किए अपराध पर अपना दावा किया है। सूत्र का कहना है, 'वह झूठा और छोटा-मोटा अपराधी है। उसने अब तक कोई भी बहुत बड़ा काम नहीं किया है।

चाय की दुकान से बना गैंगस्टर

बताया गया कि 80 के दशक में वह अंधेरी में एक चाय की दुकान पर काम करता था, जहां से वह विनोद मटकर और रोहित वर्मा जैसे गैंगस्टर्स को चाय पहुंचाया करता था। जब वर्मा ने गैंगस्टर बाला जाल्टे की हत्या की तो पुजारी ने सिर्फ हथियार मुहैया कराए थे। इसके बाद उसका गैंगस्टर्स के साथ उठना-बैठना था। उसके बाद वह दाऊद इब्राहिम व छोटा राजन के साथ हो गया था।

Loading...
Share it
Top